हरियाणा का जर्रा-जर्रा आज़ादी के लिए खून से भीगा है -प्रियंका सौरभ , हिसार,हरियाणा

हरियाणा का जर्रा-जर्रा आज़ादी के लिए खून से भीगा है

स्वतंत्रता आंदोलन की आग में पूरा हरियाणा जल उठा था। बात 1857 की है, जब प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन में आजादी के दीवाने जंग में कूद पड़े। उस दौरान हरियाणा से 3000 हजार से ज्यादा लोग मारे गए थे। अंग्रेजों ने कुछ को पकड़ कर फांसी पर लटका दिया तो कुछ को गोली से उड़ा दिया। इस पर भी बस नहीं चला तो कई गांवों को जलाकर राख कर दिया गया। हरियाणा का यह भूभाग उस समय पंजाब प्रांत का भाग था।

-प्रियंका ‘सौरभ’

इतिहास उठाकर देखिए, हरियाणा का हर जर्रा खून से भीगा दिखाई देगा। आजादी की जंग जीतने में जहां देश के जवानों ने कोई कसर नहीं छोड़ी, वहीं अंग्रेजों ने भी क्रूरता की हद पार कर दी थी। स्वतंत्रता आंदोलन की आग में पूरा हरियाणा जल उठा था। बात 1857 की है, जब प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन में आजादी के दीवाने जंग में कूद पड़े। उस दौरान हरियाणा से 3000 हजार से ज्यादा लोग मारे गए थे। अंग्रेजों ने कुछ को पकड़ कर फांसी पर लटका दिया तो कुछ को गोली से उड़ा दिया। इस पर भी बस नहीं चला तो कई गांवों को जलाकर राख कर दिया गया। हरियाणा का यह भूभाग उस समय पंजाब प्रांत का भाग था। क्रांतिकारी सिपाही मंगल पाण्डेय के नेतृत्व में 10 मई 1857 को प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन की शुरूआत की गई थी। इस दौरान 13 मई को जब गुड़गांव और अन्य जिलों में भी यह आग भड़की तो हरियाणा से बहुत से वीर इसमें शामिल हो लिए। इनमें कई वीरों ने अपनी जान गवांंई।

हरियाणा गर्व करता है कि देश की आज़ादी की क्रांति में उसका एक स्थान है। भारतीय इतिहास महाभारत से जुड़ा है जिसे अब हरियाणा कुरुक्षेत्र भूमि कहा जाता है। जहां सही और गलत के बीच सबसे बड़ी लड़ाई हुई। यह दिलचस्प है कि हरियाणा कई युद्ध दृश्यों के लिए एक युद्ध का मैदान रहा है। हरियाणा का गठन 1966 में हुआ था। यह पहले पंजाब का हिस्सा था और इसलिए स्वतंत्रता के लिए स्वतंत्रता संग्राम में पंजाब का बहुत उल्लेख है, लेकिन लोगों के बलिदान के मामले में हरियाणा के योगदान के रूप में बहुत कम जाना जाता है। हरियाणा में ब्रिटिश शासन के खिलाफ विद्रोह की पहली चिंगारी 10 मई 1857 को अंबाला से शुरू हुई थी, यहीं पर देशी पैदल सेना के सैनिकों विद्रोह शुरू किया था। उसी दिन मेरठ स्थित देशी पैदल सेना में इसी तरह का विद्रोह किया, यह घटना तेजी से सभी भागों में फैल गई। किसान सैनिक और स्थानीय नेता पिनगवां के मेव सदरुद्दीन स्थानीय नेताओं जैसे राव तुलाराम और उनके चचेरे भाई गोपाल देव के नेतृत्व में एक साथ आए थे। जल्द ही समद खान, जनरल मोहम्मद अजीम बेग, राव किशन सिंह राव, रामलाल सभी मिलकर अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह में शामिल हो गए।
साधारण, स्थानीय सैनिक और हरियाणा के स्थानीय नेता इस विद्रोह के लिए आगे आये थे, जबकि पड़ोसी क्षेत्रों के नेताओं ने इस महत्वपूर्ण समय के दौरान ब्रिटिश राज के खिलाफ आवाज नहीं उठाई। हरियाणा के अन्य हिस्सों की तरह, रोहतक में भी ब्रिटिश राज के सभी प्रतीकों पर हमला किया और खरखोदा के एक बिसरत अली जो अंग्रेजों में एक रिसालदार थे; सबर खान के साथ एक किसान नेता, स्थानीय लोग सभी एक साथ आए और रोहतक तहसील में ब्रिटिश संपत्ति और निवास पर हमला किया। रोहतक के डिप्टी कमिश्नर विलियम लॉज को रोहतक छोड़ना पड़ा लेकिन तहसीलदार बखावर सिंह और थानेदार भूरे खान के काम की मौत हो गई।

अंत में 15 अगस्त 1857 को मेजर जनरल विल्सन द्वारा समर्थित लेफ्टिनेंट डब्ल्यूएसआर एडसन अपनी सेना के साथ खखोड़ा पहुंचे और संघर्ष में बिसरथ अली मारे गए। फिर वे रोहतक जिले में सबर खान को दबाने पहुंचे जो वहां विद्रोह का नेतृत्व कर रहे थे। सबर खान और रोहतक के स्थानीय किसानों के पास सीमित संसाधन थे, अंततः रोहतक में वो हार गए, जबकि इसी दौरान हिसार, हांसी और सिरसा के स्थानीय लोगों ने हुकुमचंद जैन, भतीजा फकीरचंद जैन ,मोहम्मद अजीम ,नूर मोहम्मद सभी ने मिलकर 29 मई 1857 को विद्रोह का नेतृत्व किया, उन्होंने हिसार के डिप्टी कमिश्नर सहित 12 यूरोपीय लोगों को मार डाला।

इसमें हिसार के के डिप्टी कमिश्नर जॉन वेडरबर्न अपनी पत्नी और बच्चे के साथ मारे गए। ब्रिटिश राज के खिलाफ विद्रोह के दौरान अंबाला, जींद के अलावा हरियाणा के अधिकांश शेष क्षेत्रों में अंग्रेजों को राजस्व देना बंद कर दिया। हालांकि 16 नवंबर तक यहाँ विद्रोह समाप्त हो गया और अंग्रेजों ने खुद को मजबूत किया। 10 अप्रैल 1875 के बाद हरियाणा में आर्य समाज जड़ें जमाने लगा, स्वामी दयानंद ने मुंबई में आर्य समाज की शुरुआत की। आर्य समाज ने मूर्ति पूजा के खिलाफ आवाज उठाई। विधवा विवाह, अस्पृश्यता और स्त्री शिक्षा पर जोर दिया। आर्य समाज को हरियाणा के लोगों से ऐसे क्षण में बहुत समर्थन मिला। जो न केवल मधुर जागरण था बल्कि राष्ट्रीय विचार को भी जन्म देता था। इसका ब्रिटिश राज के खिलाफ बाद के उदय में एक बड़ा प्रभाव पड़ा। लाला लाजपत राय ने हरियाणा में सार्वजनिक जीवन की शुरुआत की। उनके पिता ने रोहतक में स्कूल बनवाया और लाला लाजपत राय ने आर्य समाज को एक प्रमुख तरीके से बढ़ावा दिया। कई अन्य प्रमुख नाम थे जिन्होंने योगदान दिया जैसे चौधरी मातूराम और उसके पुत्र चौधरी रणवीर सिंह।
हरियाणा में 1886 में झज्जर में सनातन धर्म सभा दीन दयालू शर्मा द्वारा शुरू किया गया। संस्कृत के उपयोग को बढ़ावा दिया और हिंदी भाषा की शिक्षा को बनाए रखा। इस आंदोलन से जुड़े अन्य महत्वपूर्ण नाम स्वामी श्रद्धानंद चौधरी, माथुराम, भगत फूल सिंह, भीम सिंह थे। जो विभिन्न सामाजिक बुराइयों के खिलाफ थे। हरियाणा में सामाजिक मूल्यों के विकास में सनातन धर्म ने अहम योगदान दिया। 1885 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का जन्म एलेन ऑक्टेविय एक ब्रिटिश सिविल सेवक के प्रयासों से हुआ। मगर वो शिक्षित भारतीयों और आम आदमी दोनों के साथ अपनी संस्था में नहीं बढ़ रहा था। प्रथम विश्व युद्ध के साथ अंग्रेजों ने समर्थन के लिए स्थानीय भारतीयों की ओर रुख किया और भारत ने ब्रिटिश साम्राज्य की ओर से युद्ध के लिए हामी भर दी।

हरियाणा फिर से इस मामले में पहले स्थान पर था। जनवरी 1915 और नंबर 1918 के बीच दिल्ली, झज्जर, रेवाड़ी और भिवानी में भर्ती केंद्रों से 84000 सैनिक भर्ती हुए और कांग्रेस इस उम्मीद में अंग्रेजों के लिए समर्थन की पेशकश करती रही कि ब्रिटिश 1918 में भारत को डोमिनियन का दर्जा देंगे, लेकिन ब्रिटिश रॉलेट एक्ट बिल के साथ सामने आए और मोंटेग्यू चैंप्स फॉर रिफॉर्म बिल पूरे भारत में भारतीय लोगों के लिए जी का जंजाल बन गया। 1918 में अप्रैल 6 से 10 तक गुड़गांव, बल्लभगढ़, झज्जर, रोहतक, सोनीपत, रेवाड़ी, पानीपत, अंबाला और जगाधरी में जोरदार हड़ताल हुई। लेकिन 13 अप्रैल 1919 को अमृतसर में जलियांवाला बाग हत्याकांड ने पूरे राष्ट्र को पूर्ण आज़ादी के आह्वान पर ला दिया। हरियाणा में असहयोग आंदोलन स्वतंत्रता के लिए जमीन हासिल कर रहा था, हरियाणा के कई युवा नागरिक जो जगह-जगह पढ़ रहे थे जैसे दिल्ली और लाहौर ने स्वतंत्रता आंदोलन में कूदने के लिए शिक्षा छोड़ दी। देशबंधु गुप्ता (पानीपत) लाला जानकीदास, पंडित रामफुल सिंह, रोहतक लाला अयोध्या प्रसाद दादरी, चंद्रसेन वशिष्ठ गुड़गांव इस सूची में शामिल होने वाले कई नामों में शामिल थे। अंग्रेजों के खिलाफ जवाला बढ़ रही थी और प्रत्येक बीतते दिन के साथ अंग्रेजों को यह एहसास होने लगा कि भारत पर शासन करना कठिन होता जा रहा है।

द्वितीय विश्व युद्ध में अंग्रेजों का भयानक नुकसान हुआ। आखिरकार अंग्रेजों ने भारत को औपनिवेशिक शासन से मुक्त करने का फैसला किया। लेकिन स्वतंत्रता हमें हिंदू और मुसलमानों के बीच संघर्ष की भयानक कीमत पर मिली। जिसके कारण अंततः पाकिस्तान का गठन हुआ। हमें उस बलिदान को कभी नहीं भूलना चाहिए जो हमारे पूर्वजों और नेताओं ने, वृद्ध, महिलाओं और बच्चों ने ब्रिटिश शासन को समाप्त करने के लिए किया है। वे सामूहिक योगदान हैं जो आज हमें स्वतंत्र रूप से और सम्मान के साथ जीने की इज़ाज़त देते हैं और यह एक विरासत है जिसे हमें एक साथ मिलकर अगली पीढ़ी को देना चाहिए।

प्रियंका सौरभ
रिसर्च स्कॉलर इन पोलिटिकल साइंस,
कवयित्री, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तंभकार,
हिसार,हरियाणा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here