काव्य भाषा : आये बडे त्यौहार हैं – ममता वैरागी, तिरला धार

आये बडे त्यौहार है

आये बडे त्यौहार है, महाउत्सव के रोज वार है।।
चलते रहे ऐसी खुशी के स़ंग, आजादी से सबको प्यार है।।

जश्न.मनाएं, हम घर घर, तिरंगा, लगाए प्रत्येक दर।
लगे, मेरा जहाँ है यह, इससे सबको सरोकार है।

तीन रंगो मे रंगा हुआ, मस्त जगाता तरंगा, हुआ।।
मां भारतीय का सबसे प्रिय, हर नागरिक का सार है।।

वादा ऐक हमे करना.है, विचारो को संजोना है।
राष्ट्र को आगे बढाते जाना है यही आदर्श रखना है।

मन ,वचन, और कर्म से, चाहे जिस भी धर्म से।
बात फतह की सच हे यह भारत का सर विश्व से ऊपर।

महान.हमारा दाता है, अन्न.जल यह देता है।
एक सुंदर संसार मे हमे बांधे रखता है।

राष्ट्रीय सम्पति नष्ट ना करे, कभी किसी को कष्ट ना धरे।
जोश और उत्साह के साथ, आगे बढते रहे कदम।

ममता वैरागी
तिरला धार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here