उदभव अन्तर्राष्ट्रीय ग्वालियर साहित्य उत्सव का आयोजन 27 से 30 अगस्त 2022 तक

उदभव, अखिल भारतीय साहित्य परिषद एवं सैन्ट्रल अकेडमी स्कूल का संयुक्त आयोजन

उदभव अन्तर्राष्ट्रीय ग्वालियर साहित्य उत्सव का आयोजन 27 से 30 अगस्त 2022 तक

ग्वालियर 4 अगस्त ।
उदभव सांस्कृतिक एवं क्रीड़ा संस्थान अपनी गौरवशाली स्थापना के 25वें वर्ष में अपने नवगठित प्रकल्प ‘‘उदभव साहित्यिक मंच‘‘ के तत्वावधान में सैन्ट्रल अकेडमी स्कूल एवं अखिल भारतीय साहित्य परिषद के सहयोग से ‘‘प्रथम अन्तर्राष्ट्रीय ग्वालियर साहित्य उत्सव‘‘ का आयोजन 27 से 30 अगस्त 2022 तक भारतीय पर्यटन एवं यात्रा प्रबन्ध संस्थान परिसर में आयोजित करने जा रहा है । इस आयोजन में देश-विदेश के ख्यातिनाम साहित्यकारों का समागम ग्वालियर में होगा ।

कार्यक्रम के सम्बन्ध में पत्रकारों से चर्चा करते हुये उदभव के अध्यक्ष डॉ. केशव पाण्डेय एवं कार्यक्रम के मुख्य संरक्षक श्रीधर पराडकर ने बताया कि ग्वालियर-चम्बल अंचल में अनगिनत साहित्यक साधक वर्षों से श्रेष्ठ साहित्य का सृजन कर रहे हैं । ग्वालियर-चम्बल अंचल के इन साहित्य साधकों की साधना को अन्तर्राष्ट्रीय मंच पर लाने के उद्देश्य से उदभव साहित्यिक मंच चार दिवसीय ‘‘उदभव अन्तर्राष्ट्रीय ग्वालियर साहित्य उत्सव‘‘ का आयोजन कर रहा है जिसमें अंचल के साहित्यकारों का राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय साहित्यकारों के साथ साक्षात्कार होगा । इस आयोजन में प्रख्यात फिल्म लेखक, निदेषक पियूष मिश्रा, फिल्म एवं नाटक लेखक अभिराम भड़कमकर, पद्मश्री डॉ. विद्याबिन्दु सिंह, डॉ. परीन सोमानी (इंग्लैण्ड), पुरू लामसल (काठमाण्डु) डॉ.सच्चिदानन्द जोशी, डॉ. क्षमा कौल, डॉ. नीरजा माधव, डॉ. अजय कुमार के.सी., उदय माहुरकर, प्रो. कलाधर आर्य, डॉ. वासुदेवन शेष, विजय तिवारी, डॉ. संजय द्विवेदी, राजीव वर्मा, डॉ. विकास दवे, प्रो. टी. कट्टीमनी, सुरेश नीरव, डॉ. बृजकिशोर कुठियाला, डॉ. नुसरत मेंहदी, डॉ. इन्दुषेखर तत्पुरूष, मनोज श्रीवास्तव, डॉ. के.जी. सुरेष, डॉ. नन्द किशोर पाण्डेय, रमेश पतंगे, डॉ. अनिल शर्मा जोशी, प्रो. सुबदनी देवी, डॉ. विजय गोपाल, डॉ. धीरेन्द्र चन्द्र शर्मा, डॉ. सोनम वांगचुक, प्रो. गोविन्द शर्मा जैसे देष के मूर्धन्य साहित्यकार विभिन्न विषयों पर अलग-अलग सत्रों में अपने विचार रखेंगे ।
ग्वालियर में इतना बड़ा साहित्य उत्सव प्रथम बार आयोजित किया जा रहा है जिसमें विश्व स्तरीय साहित्यकार, चिंतक, विचारक, लेखक एक साथ बड़ी संख्या में एकत्रित होंगे ।
सैन्ट्रल अकेडमी स्कूल की निदेशक श्रीमती कविता झालानी तथा कार्यक्रम संयोजक सुरेन्द्रपाल सिंह कुशवाह ने बताया कि साहित्य के क्षेत्र में नवीन सम्भावनाओं को खोजने के उद्देश्य से इस चार दिवसीय आयोजन में ग्वालियर के छात्र-छात्राओं के लिये विभिन्न साहित्यिक प्रतियोगितायें प्रातःकालीन सत्रों में सैन्ट्रल अकेडमी स्कूल में आयोजित की जायेगी । इन प्रतियोगिताओं के माध्यम से छात्र-छात्राओं में साहित्यिक रूचि पैदा होगी, साथ ही नई पीढ़ी की एक संभावना से लहलहाती पौध तैयार होगी जो भविष्य में ग्वालियर-चम्बल अंचल का नाम देश-विदेश में रोशन करेगी ।आज की पत्रकार वार्ता में उदभव के अध्यक्ष डॉ. केशव पाण्डेय, कार्यक्रम के मुख्य संरक्षक श्रीधर पराडकर, दीपक तोमर, सैन्ट्रल अकेडमी स्कूल की निदेशक श्रीमती कविता झालानी, प्राचार्य अरविन्द सिंह जादौन, कार्यक्रम संयोजक सुरेन्द्रपाल सिंह कुशवाह, शरद सारस्वत, श्रीमती मनीषा जैन, मोनू राणा, राजीव शुक्ला, योगेन्द्र सिकरवार, शरद यादव, साहिल खान, शाहिद खान, राजेन्द्र मुदगल, डॉ. आदित्य सिंह भदौरिया, मनोज अग्रवाल, प्रवीण शर्मा, अमर सिंह परिहार, आलोक द्विवेदी आदि उपस्थित थे ।

मुकेश तिवारी द्वारा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here