प्रणेता साहित्य संस्थान,दिल्ली का स्थापना दिवस,सम्मान समारोह और काव्य गोष्ठी संपन्न

Email

प्रणेता साहित्य संस्थान,दिल्ली का स्थापना दिवस,सम्मान समारोह और काव्य गोष्ठी संपन्न

दिल्ली।
9 जून 2022 को प्रणेता के संस्थापक और महासचिव वरिष्ठ साहित्यकार एस जी एस सिसोदिया जी के सान्निध्य और मार्गदर्शन और वरिष्ठ साहित्यकार मुजफ्फर इकबाल सिद्दीकी की गरिमामयी अध्यक्षता में स्थापना दिवस और सम्मान समारोह आयोजन संपन्न हुआ।इस भव्य आयोजन का संयोजन और संचालन प्रणेता अध्यक्ष शकुंतला मित्तल ने कुशलता पूर्वक किया।
मुख्य अतिथि के रूप में वरिष्ठ साहित्यकार अंजू खरबंदा ने मंच की शान बढ़ाई और अति विशिष्ट अतिथि के रूप में अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वरिष्ठ साहित्यकार राजेन्द्र निगम ‘राज’ ने उपस्थिति से मंच को ऊर्जा प्रदान की।
यह आयोजन दो सत्र में संपन्न हुआ। प्रथम सत्र का शुभारंभ वरिष्ठ कवयित्री श्रीमती वीणा अग्रवाल ने सुमधुर सरस्वती वंदना से किया।
मंच के संस्थापक और महासचिव एस जी एस सिसोदिया ने प्रणेता के स्थापना दिवस पर सबको बधाई और शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि प्रणेता हर उस साहित्य सेवी और शब्द शिल्पी का आह्वान कर उसे मंच प्रदान करने का नाम है,जो अपने भावों को कलमबद्ध कर रहा है।प्रणेता की विधिवत दैनिक कार्य शैली से भी उन्होंने अवगत करवाया। उन्होंने कहा कि श्रीमती एवं श्री खुशहाल सिंह पयाल स्मृति सम्मान वे अपने स्वर्गीय सास ससुर की स्मृति में आयोजित कर उन्हें श्रद्धांजलि समर्पित करते हैं। तत्पश्चात उन्होंने वर्ष 2021/22 के पुरस्कारों की घोषणा की। तृतीय पुरस्कार की विजेता कर्नाटक से डाॅ अंबुजा एन मलखेडकर ‘सुवान’ ,द्वितीय स्थान पर वरिष्ठ साहित्यकार सुषमा भंडारी जी,दिल्ली से और प्रथम पुरस्कार वरिष्ठ साहित्यकार पुष्पा शर्मा कुसुम ,अजमेर को मिला। इन सबको दी जाने वाली नगद राशि इन्हें पे टी एम करवाने की घोषणा भी की गई । विजेताओं ने अपने अनुभव मंच पर रखते हुए सिसोदिया जी का आभार किया।
दूसरे सत्र में काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया,जिसमें स्वीटी सिंघल ‘सखी’
शारदा मित्तल ,डाक्टर भावना शुक्ल ,डाॅ. कल्पना पाण्डेय , वंदना दयाल, वीणा अग्रवाल , इन्दु ‘राज’ निगम, प्रेम लता चौधरी
प्रीति मिश्रा जी, लाडो कटारिया, चन्नी वालिया , सविता स्याल ,सरिता गुप्ता,डाॅ वनिता शर्मा , अर्चना पाण्डेय , सुषमा भंडारी ,डाॅ अंबुजा,पुष्पा शर्मा कुसुम,अंजू खरबंदा,राजेन्द्र निगम ‘राज’ जी ने अपनी उत्कृष्ट प्रस्तुति से इस शाम को यादगार बना दिया।
आयोजन अध्यक्ष मुजफ्फर इकबाल सिद्दीकी जी ने अध्यक्षीय वक्तव्य में प्रणेता की कार्यप्रणाली और प्रत्येक प्रतिभागी की सकारात्मक समीक्षा कर सबका मनोबल बढ़ाया और सभी विजेताओं को बधाई दी।उनके सूक्ष्म विश्लेषण करती प्रतिक्रिया से मंच रससिक्त हो गया।
श्रोताओं में कृपाल कौर ,कविता शर्मा शशि गर्ग , राजेशवरी जोशी विकास जैन शिखा शहजाद सुनीता गहलोत , पूनम वर्मा महेश राजा जी, मोहम्मद अजाम जी और अन्य अनेक वरिष्ठ साहित्यकार अपनी सकारात्मक प्रतिक्रिया से मंच की शान बने रहे।अंत में प्रणेता अध्यक्ष शकुंतला मित्तल ने सभी का विनम्र आभार प्रेषित कर आयोजन का समापन किया ।मंच पर श्रोताओं सहित लगभग 60 साहित्यकार उपस्थित रहे और आयोजन सफलता के शीर्ष पर पहुँच गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here