साहित्य संस्था सशक्त हस्ताक्षर का गठन

साहित्य संस्था सशक्त हस्ताक्षर का गठन

जबलपुर ।
संस्कारधानी जबलपुर में स्थापित कवि श्री प्यासा जबलपुरी ने दिनांक 24.05.2022 को मां नर्मदा की पवित्र धरा के तट पर पार्थ रेसीडेंसी में सशक्त हस्ताक्षर साहित्य संस्था की स्थापना हेतु बैठक आयोजित की।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि महामहोपाध्याय डॉ श्री हरि शंकर दुबे, विशिष्ट अतिथि श्री विजय तिवारी किसलय व कवि श्री संगम त्रिपाठी रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री राजेश पाठक प्रवीण ने की। मां सरस्वती का अतिथियों ने पूजन अर्चन किया व माता की वंदना डाॅ. भावना दीक्षित ज्ञानश्री ने प्रस्तुत की। अतिथियों के स्वागत पश्चात् श्री प्यासा जबलपुरी ने सशक्त हस्ताक्षर साहित्य संस्था के गठन की भूमिका प्रस्तुत करते हुए पदाधिकारियों की घोषणा की जिसमें संरक्षक महामहोपाध्याय डॉ श्री हरि शंकर दुबे, मार्गदर्शक श्री विजय तिवारी किसलय व श्री राजेश पाठक प्रवीण, संस्थापक एवं अध्यक्ष श्री गणेश प्रसाद प्यासा जबलपुरी, उपाध्यक्ष डॉ भावना दीक्षित ज्ञानश्री, सचिव हिंदी के सशक्त हस्ताक्षर कवि श्री संगम त्रिपाठी एवं सह सचिव श्री मदन श्रीवास्तव बनाए गए। आगामी कार्यक्रम में नवनियुक्ति प्रदान करते हुए विस्तार किया जाएगा।
श्री गणेश प्रसाद प्यासा जबलपुरी ने सशक्त हस्ताक्षर के गठन का उद्देश्य बताते हुए कहा कि हम नव सृजन करने वाले रचनाकारों को सशक्त मंच प्रदान करते हुए स्थापित कवि साहित्यकार समाजसेवी पत्रकार शिक्षाविद को सम्मानित कर साहित्य की निर्मल धारा को प्रवाहित कर साहित्य को नई दिशा देने का काम करेंगे।
मुख्य अतिथि महामहोपाध्याय डॉ श्री हरि शंकर दुबे ने कहा कि आज का दिन इतिहास के पन्नों में जरुर अंकित होगा इस प्रेरणादायक कार्य के लिए मैं शुभकामनाएं देते हुए साहित्य संस्था को ऊंचाइयों पर पहुंचाने की संरचना में अपना योगदान सतत प्रदान करुंगा। कार्यक्रम अध्यक्ष राजेश पाठक प्रवीण ने कहा कि आज साहित्य संस्था सशक्त हस्ताक्षर का श्री गणेश हमारी भावनाओं के अनुरूप हरि की कृपा से हुआ है साहित्य साधकों के संगम से निश्चित ही हमारे उद्देश्यों को विजय श्री प्राप्त होगी।
कार्यक्रम में सर्वश्री सचिन दुबे, सोनू जैन, शिवचरण पाटिल उपस्थित रहे।
संस्कारधानी जबलपुर सशक्त हस्ताक्षर के गठन पर हिंदी सेवी श्री अनिल शुक्ला जी व श्री एस.एम.ठाकुर आदि ने बधाई दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here