‘अभिनय में आवाज़ दमदार कैसे बनें’ पर रिहर्सल हुई

207

‘अभिनय में आवाज़ दमदार कैसे बनें’ पर रिहर्सल हुई

इटारसी।
रंग मंचीय अभिनय कार्यशाला में निर्देशक मंडल के सदस्यों ने प्रतिभागियों को तृतीय दिवस बतलाया कि अभिनय को प्रभावी बनाने में संवाद अदायगी में दमदार आवाज का महत्वपूर्ण स्थान होता है। दमदार आवाज के लिए फिल्म जगत में पृथ्वीराज कपूर, राजकुमार, अमिताभ बच्चन,रजामुराद एवं सुदेश बैरी को जाना जाता है।
निर्देशक राकेश अहिरवार ने आवाज को दमदार बनाने के लिए महत्वपूर्ण टिप्स दिए। उन्होंने प्रतिभागियों को बतलाया कि पेंसिल को जीभ के नीचे रखकर एवं ओंठो से दबाकर बोलने की रिहर्सल बार बार करने से आवाज पेट से आने लगती है एवं आवाज दमदार बनने लगती है। इसी प्रक्रिया के तहत उन्होंने अनेक प्रकार से प्रतिभागियों को अभ्यास करवाया।
बीके पटेल ने कहा कि संवाद बोलते समय 5 क पर ध्यान रखा ना चाहिए। कौन बोल रहा है,किससे बोल रहा है,कहां बोल रहा है, क्यों बोल रहा है, बोल रहा है। इन बातों पर अमल करने से संवाद असर दार बनते हैं। सरताज सिंह चौहान ने भये प्रगट कृपाला नाटक मंचन के लिए किरदारों के चयन प्रक्रिया आरंभ की। प्रशिक्षण कार्यशाला का अंत भये प्रगट कृपाला भक्ति गीत के साथ सम्पन्न हुआ। कार्य शाला के सुचारू संचालन में विनोद कुशवाहा, भगवान दास अहिरवार, राजकुमार दुबे,बृज मोहन सोलंकी का सहयोग रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here