गूंज कलम की द्वारा प्रकाशित ई पत्रिका नटखट कान्हा का विमोचन समारोह सम्पन्न

396

गूंज कलम की द्वारा प्रकाशित ई पत्रिका नटखट कान्हा का विमोचन समारोह सम्पन्न

कटिहार।
हिंदी दिवस के शुभ अवसर पर”गूंज कलम की” साहित्य परिवार द्वारा साहित्य के क्षेत्र में एक नया कीर्तिमान स्थापित किया गया। इस दिन ” नटखट कान्हा” नामक साहित्यिक ई- पत्रिका का समारोह पूर्वक भव्य उद्घाटन हुआ। इस पत्रिका का ऑनलाइन उद्घाटन साहित्यकार श्री राजीव प्रखर जी में किया। अपने उद्बोधन में प्रखर जी में साहित्य के क्षेत्र में गूंज कलम की साहित्य संस्थान की भूरी भूरी प्रशंसा की और इस ई- पत्रिका में छपी कविताओं की शैली, सरसता और सहजता को अद्वितीय बताया। “गूंज कलम की ” साहित्य संस्थान की राष्ट्रीय अध्यक्षा डॉ.स्नेहलता द्विवेदी “आर्या” ने समारोह की अध्यक्षता की और कैलाश चन्द्र साहू ने मंच संचालन किया। डॉ. आर्या ने अपने संबोधन में संपादक मंडल और रचनाकारों को साधुवाद दिया और उनके लग्न और लेखनी को सराहा। धन्यवाद ज्ञापन सुश्री रुचिका राय ने किया।
नटखट कान्हा एक काव्य संग्रह है जिसमें विभिन्न कवियों की कृतियां संकलित हैं। भक्ति – काव्य की श्रृंखला में यह एक सशक्त और प्रभावी पहल है। इसका संपादक डॉ. स्नेहलता द्विवेदी”आर्या” के नेतृत्व में डॉ.अर्चना वर्माजी और सुश्री रुचिका राय जी ने किया है। इस काव्य संग्रह में लगभग अस्सी रचनाकारों की रचनाएं हैं जो कृष्ण के विविध रूपों यथा बाल,- लीला, युवा:स्वरुप, आध्यात्मिक चेतना, रासलीला, प्रेम, ज्ञान इत्यादि को बहुत सुंदर ढंग और सरस परिमार्जित तरीके से अभिव्यक्त करती हैं।
इस दिन संस्था द्वारा डॉ. ज्योति सिंह बेदी सुश्री ज्योति कुमारी और सुश्री सस्मिता मुर्मू को साहित्य के प्रति उनके समर्पण , उत्कृष्ट योगदान एवम् सतत सक्रियता के सम्मान में क्रमशः “भाव्या श्री” “नव्या श्री” और “सिबिल” उपनामों से अलंकृत किया गया। सिबिल एक संथाली शब्द है जिसका अभिप्राय मधुर (स्वीट) होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here