काव्य भाषा : हाँ मैं श्रमिक हूँ – सुषमा दीक्षित शुक्ला लखनऊ

हाँ मैं श्रमिक हूँ

मैं श्रमिक हूँ हाँ मैं श्रमिक हूँ ।
समय का वह प्रबल मंजर ,

भेद कर लौटा पथिक हूँ ।
मैं श्रमिक हूँ हाँ मैं श्रमिक हूँ।

अग्निपथ पर नित्य चलना ,
ही श्रमिक का धर्म है ।

कंटको के घाव सहना ,
ही श्रमिक का मर्म है ।

वक्त ने करवट बदल दी,
आज अपने दर चला हूँ।

भुखमरी के दंश से लड़,
आज वापस घर चला हूँ ।

मैं कर्म से डरता नही ,
खोद धरती जल निकालूँ।

शहर के तज कारखाने ,
गांव जा फिर हल निकालूँ ।

कर्म ही मम धर्म है ,
कर्म पथ का मैं पथिक हूँ।

समय का वह प्रबल मंजर,
भेद कर लौटा पथिक हूँ।

सुषमा दीक्षित शुक्ला
लखनऊ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here