काव्य भाषा : नज़्म – अदिति टंडन ,आगरा

नज़्म

मयकदा खफा है हमारी
बढ़ती गैर हाजिरी से
अब कैसे जाएं हम जब
डूबे हैं तेरी बेखुदी में ।

स्याही रूठी है कि क्यूं
नहीं सजाते अब लफ्ज़
पर कैसे लिखें वो अल्फाज़
जो सिमट गए तेरे तसव्वुर में ।

फिजाएं भी नाराज़ हैं कि नहीं
करते अब हम रुख गुलशन का
कैसे जाएं अब उस जानिब
जब कस्तूरी बसी तेरे दामन में ।

अदिति टंडन
आगरा .

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here