संस्था व्यंग्यम् का “फाग फुहार” काव्य सम्मेलन संपन्न

संस्था व्यंग्यम् का “फाग फुहार” काव्य सम्मेलन संपन्न

संस्था व्यंग्यम् के तत्वावधान में होली के अवसर पर वार्षिक कार्यक्रम ऑनलाइन काव्य सम्मेलन “फाग फुहार” का आयोजन किया गया । कार्यक्रम की शुरुआत कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे रंजीत सारथी ने सरस्वती वंदना से की । कवि सम्मेलन में रचनाकारों ने सस्वर काव्य पाठ कर होली के अवसर पर रंग भरी प्रस्तुतियाँ दी । सभी की रचनाएं एक से बढ़कर एक गीत, मुक्तक, मुक्त छंद, छंद युक्त कविताओं ने गोष्ठी को यादगार बना दिया । काव्य पाठ में संस्था के संरक्षक डॉ सपन सिन्हा ने होली की शुभकामनाएं अपनी रचना से कुछ इस तरह दी
” यार मेरे तो मुस्कुरा ले इस बरस की होली में”

संस्था अध्यक्ष अनिता मंदिलवार सपना ने गीत
की प्रस्तुति दी
“ये सुहानी ऋतु फागुन की, सरसी धरती छवि छाने लगी”
इसके बाद पूनम दुबे ने कविता प्रस्तुत की “छोड़ो छोड़़ो मुझको सावरियाँ
ऐसे ना भिगो मोरी चुनरियाँ”

पिछली होली की याद करते हुए आयशा अहमद ने अपनी रचना प्रस्तुत की
” पिछली होली तुम्हारा आना अच्छा लगा”

इसके बाद राजेंद्र सिंह “अभिन्न” ने समसामयिक क्षणिकाएँ प्रस्तुत की
“बागान के मजदूर बहुत खास होते हैं जब चुनाव पास आते हैं ”
डॉ नीरज वर्मा ने सम सामयिक रचना प्रस्तुत की और कहा
“आओ थोड़ा अपने घर की बात करें”

आशा पांडे जी ने अपने मन की कुछ बात को कुछ इस तरह से होली के बारे में बताया कि
“मैं भी खेलूँ पिया संग होली बरसाने में”

राजेश पांडेय जी ने अपनी रचना बसंती अंदाज में प्रस्तुत किया
“मस्त मलंगी मन हुआ बासंती अंदाज”
अजय चतुर्वेदी जी ने रचना प्रस्तुत की
“आने वाला होली का पर्व दूध सा उज्जवल हो गंगा सा निर्मल हो”
गीता द्विवेदी ने अपनी रचना प्रस्तुत की
“आयल भादो अष्टमी बदली की छांव में अईहा हो कन्हैया अबकी फागुन हमरा गांव में”
“पूनम पांडे ने होली को कुछ इस तरह से कहा “होली खेले नंद किशोर” और
अर्चना पांडे ने होली में फाग फुहार की बात जरूर होनी चाहिए
राजलक्ष्मी पांडेय ने कहा कि
सतरंगी रंगों को लेकर, आया फाग फुहार । अपनो का यह साथ अनूठा, भरे दिलों में प्यार । और रंजीत सारथी जी ने बहुत ही सुंदर रचना से समापन किया
“होली खेले हम जोली”
कार्यक्रम के अंत मे अनिता मंदिलवार सपना ने सभी की रचनाओं की दो पंक्तियों को त्वरित काव्यमय आशु सृजन प्रस्तुत किया ।

कार्यक्रम का सफल संचालन राजलक्ष्मी पांडेय और अर्चना पाठक निरंतर ने किया ।ऑनलाइन काव्य सम्मेलन का सफल तकनीकी संचालन संस्था के उपाध्यक्ष इं• विशाल वर्मा ने किया । कार्यक्रम , कार्यक्रम प्रभारी गिरीश गुप्ता और ब्लाक अध्यक्ष अंचल सिन्हा के मार्गदर्शन में सफलता से संपन्न हुआ और कवि सम्मेलन में उपस्थित रहे अनंग पाल दीक्षित, राज नारायण द्विवेदी, वंदना दत्ता, सत्यजीत श्रेष्ठ, अंचल सिन्हा, सौरभ वाजपेयी, राजेंद्र विश्वकर्मा, राम लाल विश्वकर्मा, मधु गुप्ता, नीलम सोनी, लता नायर, आप सभी की उपस्थिति ने कार्यक्रम को सफल बनाया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here