नियमित रामायण पाठ करने से परिवार संस्कारवान बनता है

नियमित रामायण पाठ करने से परिवार संस्कारवान बनता है-पं उपाध्याय

खंडवा।
बिना हवन यज्ञ के ईश्वरीय शक्तियां समाप्त हो जाती है जैसे कि मोबाइल की बैटरी को हमें बार-बार चार्ज करना पड़ता है उसी तरह से हम मानव शरीर से जितना भी हवन यज्ञ, हरी नाम स्मरण करेंगे उतनी ही विश्व में ईश्वर की शक्ति बढ़ेगी। जिस घर में नियमित रूप से रामायण का पाठ होता है वह परिवार संस्कारवान बन जाता है। यह बात मंगलवार को किशोर नगर रहवासी संघ के तत्वावधान में श्री हनुमान वाटिका में चल रही 9 दिवसीय श्रीराम कथा के पंचम दिवस श्रीराम जन्मोंत्सव अवसर पर व्यासपीठ से पं मनोज उपाध्याय ने उपस्थित श्रद्धालुओं से कहीं। यह जानकारी देते संघ अध्यक्ष पंडित प्रेमनारायण तिवारी एवं प्रवक्ता निर्मल मंगवानी ने बताया कि कथा के दौरान सद्भावना मंच अध्यक्ष प्रमोद जैन, साहित्यकार जगदीशचंद्र चौरे, चंद्र कुमार सांड, जिला शिवसेना प्रमुख गणेश भावसार, निर्मल मंगवानी, कमल नागपाल, कावेरी विहार महिला मंडल अध्यक्ष अन्नपूर्णा तंवर के साथ बहनों ने पंडित श्री को शाल श्रीफल भैंटकर आशीर्वाद प्राप्त किया। इस अवसर पर पं. प्रेमनारायण तिवारी, हुकुमचंद चौहान, आरके चौरे, मनोहर चंदानी, भीम सिंह दरबार, पं. राम उपाध्याय, संजय सोनी, अशोक तिवारी, कुसुम तिवारी, जानकी अग्रवाल, किरण दुबे, माया सरावगी, माया राठौर, शोभा मालवीया, कविता सातलें, सुनीता चौरे, नेहा कटारे, आदि सहित संघ सदस्यों के साथ बड़ी संख्या में नगरवासी उपस्थित थें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here