सुरेखा अग्रवाल “स्वरा” को मिला प्रेमचंद सम्मान

33

सुरेखा अग्रवाल “स्वरा” को मिला प्रेमचंद सम्मान : काव्य मंजरी साहित्यिक मंच का पंचम स्थापना दिवस सम्पन्न

29 जनवरी 2021 को मंच ने अपना पांचवा स्थापना दिवस मनाया। 2016 में मात्र 5 रचनाकारों को लेकर ये समूह व्हाट्सअप पर डॉ नीरजा मेहता ‘कमलिनी’ द्वारा प्रारम्भ किया गया था और धीरे-धीरे मंच ने पांव पसारे और देश के विभिन्न राज्यों से रचनाकार जुड़ते गए। यूँ तो अब तक ये समूह 150-200 रचनाकारों का हो जाता पर संस्थापिका ने संख्या को महत्व न देकर गुणवत्ता को महत्व दिया जिसका परिणाम ये है कि मंच पर 70 से अधिक सक्रिय और बेहतरीन रचनाकार जुड़े हुए हैं। निःसन्देह मंच को आगे ले जाने में सभी रचनाकारों का योगदान प्रणम्य है।

स्थापना दिवस का आयोजन दो सप्ताह पूर्व ही प्रारम्भ हो गया था जिसमें मनपसन्द विषयों को लेकर कई प्रतियोगिताएं आयोजित की गईं। विजेताओं को शब्द शक्ति सम्मान, शब्द संजीवनी सम्मान और शब्द श्रृंगार सम्मान से सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर तीन रचनाकारों को उपनाम से सुशोभित किया गया जिनको उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा रजिस्टर “काव्य मंजरी साहित्यिक मंच” (रजिस्टर्ड संस्था) की ओर से प्रमाण-पत्र भी दिया गया।

इस अवसर पर हिंदी साहित्य की विधा पर कुछ चुनिंदा रचनाकारों को भी सम्मानित किया गया। गज़लकारों को “कैफ़ी आज़मी सम्मान”, छंदकारों को “गोपालदास नीरज सम्मान”, मुक्तछंद रचनाकारों को “सूर्यकांत त्रिपाठी निराला सम्मान”, आलोचकों को “डॉ नामवर सिंह सम्मान” और कहानीकारों को “प्रेमचंद सम्मान” से नवाज़ा गया। सुश्री सुरेखा अग्रवाल “स्वरा” लखनऊ को प्रेमचंद सम्मान से नवाजा गया ।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here