काव्य भाषा : करदाता भी महान – मुनीष भाटिया ,चंडीगढ़

40

करदाता भी महान

है भारत राष्ट्र समान सबका
लिंग वर्ग जाति या धर्म भेद बगैर
हक़ो हक़ूक भी बराबर सबके
है जय किसान की ग़र तो
करदाता भी महान बहुत
सड़क पर अधिकार सबका
नहीं जागीर किसी खास वर्ग की
बहुत हुए शाहीन सिंघु टीकरी
और सियासत के खेल अब तक
सडक पे चलने का हक़ भी है मेरा
बेशक देश नहीं पून्जिवान का
समझना लाज़िमी ये भी है
कर से घूमता चक्र राष्ट्र का
पल्लवित उद्योगों की तीव्र गति से
देश मेरे का विकास ही सम्भव
करदाताओं के अल्प त्याग से
वेतन पेंशन रेल सुरक्षा मार्ग व
जनहित योजनाओं को मिलता संबल
जय है किसान जवान ग़र तो
करदाता का भी योगदान विशेष
भारत पे मेरा अधिकार बराबर
लिंग वर्ग जाति या धर्म भेद बगैर !

: मुनीष भाटिया
585, स्वास्तिक विहार, पटियाला रोड,
जीरकपुर (मोहाली), चंडीगढ़
मोबाइल न. 9416457695

munishbhatia122@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here