काव्यभाषा : प्रतीक्षा -डॉ संगीता तोमर इंदौर मध्यप्रदेश

37

Email

प्रतीक्षा

जिस पल से यह जनम लिया है
जीवन का हर क्षण प्रतीक्षा
कब यह समाप्त होगी
मुक्त होना माया से
है लक्ष्य इसका या
मोक्ष मिलने की प्रतीक्षा

तृषा निरंतर रहती है
अभिभाव भावनाओं का चहुं ओर
पर क्षाद्र है भाव
कैसे बुझे यह पिपासा
एक घूंट अनुराग की अपेक्षा
वेदना कम होने की प्रतीक्षा
जीवन काल का यथार्थ प्रतीक्षा
जीवन कथा का सार प्रतीक्षा
जो गुणी जाने मर्म
वहीं मोक्ष का जाने भेद
आस लगाना, बाट जोहना
जो है उसमें और की प्रतीक्षा
दुखद समय के अंत की अपेक्षा
सुखद क्षणों की आस लगाना
आकांक्षाओं के समुद्र में डूबते तैरते
भवसागर पार जाने की प्रतीक्षा

डॉ संगीता प्रतीक्षा
जिस पल से यह जनम लिया है
जीवन का हर क्षण प्रतीक्षा
कब यह समाप्त होगी
मुक्त होना लक्ष्य इसका
मोक्ष मिलने की प्रतीक्षा

तृषा निरंतर रहती है
अभिभाव भावनाओं का चहुं ओर
पर क्षाद्र है भाव
कैसे बुझे यह पिपासा
एक घूंट अनुराग की अपेक्षा
वेदना कम होने की प्रतीक्षा
जीवन काल का यथार्थ प्रतीक्षा
जीवन कथा का सार प्रतीक्षा
जो गुणी जाने मर्म
वहीं मोक्ष का जाने भेद
आस लगाना, बाट जोहना
जो है उसमें और की प्रतीक्षा
दुखद समय के अंत की अपेक्षा
सुखद क्षणों की आस लगाना
आकांक्षाओं के समुद्र में
डूबते तैरते
भवसागर पार जाने की प्रतीक्षा

डॉ संगीता तोमर
इंदौर मध्यप्रदेश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here