बुजुर्गों की मनोदशा और हमारा दायित्व पर गोष्ठी का आयोजन

Email

बुजुर्गों की मनोदशा और हमारा दायित्व पर गोष्ठी का आयोजन

आज इंद्रप्रस्थ लिटरेचर फ़ेस्टिवल की चंडीगढ़ इकाई द्वारा “बुज़ुर्गों की मनोदशा और हमारा दायित्व” विषय पर एक ऑनलाइन गद्य गोष्ठी आयोजित हुई जिस की अध्यक्षता श्रीमती शीला गहलावत सीरत ने की । मुख्य अतिथि डाॅ चन्द्रमणि बह्मादत्त, राष्ट्रीय अध्यक्ष और संरक्षक परमानन्द दीवान ने बुज़ुर्गों के सम्मान और समाज सुधार के लिए अपने विचारों द्वारा प्रेरित किया । डा० श्रीमती इंदिरा गुप्ता यथार्थ जी ने कार्यक्रम का शुभारम्भ किया और नीरू मित्तल ने सरस्वती वंदना की । आभा मुकेश साहनी और नीरजा शर्मा ने मंच संचालन किया । देश के अलग-अलग प्रांतों से प्रतिभागियों के रूप में भारत भूषण वर्मा, सुनीता राणा , मधु गोयल , राशि श्रीवास्तव, नीलम त्रिखा, अनुपमा पाराशर , मनजीत तुर्का, रेखा शर्मा ,कुंती नवल और अनीता जैन ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लेते हुए बुज़ुर्गों के सम्मान के प्रति अपने विचार व्यक्त किए ।और समाज में बुजुर्गों के सम्मान को पुनर्स्थापित करने के तरीकों के बारे में बताया।शीला गहलावत सीरत ने धन्यवाद देते हुए सभी उपस्थित सुधीजनों का आभार व्यक्त किया । गोष्ठी का समापन राष्ट्रीय गान के साथ हुआ
शीला गहलावत सीरत
अध्यक्षा
इन्द्र प्रस्थ लिट्रेचर फैस्टिवल चण्ड़ीगढ

1 COMMENT

  1. अति उत्तम कार्यक्रम, सभी की सुन्दर प्रस्तुति

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here