काव्य भाषा : प्रेम दिल से होता है -संजय जैन मुंबई

47

Email

प्रेम दिल से होता है

मोहब्बत सूरत से नहीं होती है।
मोहब्बत तो
दिल से होती है।
सूरत खुद प्यारी
लगने लगती है।
कद्र जिन की
दिल में होती है।।

मुझे आदत नहीं
कही रुकने की।
लेकिन जब से
तुम मुझे मिले हो।
दिल कही और
ठहरता नहीं है।
दिल धड़कता है
बस आपके लिए।।

कितनो ने मुझसे
नज़ारे मिलाई।
पर किसी से
नज़रे मिली नहीं।
दिल की गहराइयों
में तुम थी।
इसलिए दिल ने
औरो को चाहा नहीं।।

बड़ा ही साफ़
पाक रिश्ता है।
जनाब,
रिश्ता ये मोहब्बत का।
दरवाजे खुद खोल
जाते है जन्नत के।
जिन को सच्ची
मोहब्बत होती है।।

संजय जैन मुंबई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here