काव्यभाषा : ये रस्मे वफ़ा दिल निभाता रहा है – सुषमा दीक्षित शुक्ला लखनऊ

Email

ग़ज़ल

वो उजड़ा चमन याद आता रहा है।
सुहाना समा दिल जलाता रहा है ।

सुलगती शमा सा फ़क़त दिल ये मेरा।
पिघलता पिघलता जलाता रहा है ।

ये घायल सी साँसे ये बेचैन आँखें ।
हर इक रोज मुझको चुकाता रहा है ।

ये रूहों की चादर में जख्मो के मोती ।
जनाज़ा हमारा सजाता रहा है ।

राहे मोह्हबत को माना इबादत ।
ये रस्मे वफ़ा दिल निभाता रहा है ।

कभी तो मिलेगा वो हमरूह मेरा ।
यही दिल दिलासा दिलाता रहा है ।

फ़ना होके भी तेरा आवाज़ देना ।
अश्कों मे, सुष, को डुबाता रहा है ।

© सुषमा दीक्षित शुक्ला
लखनऊ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here