काव्यभाषा : मानसिक विक्षिप्त -राजीव रंजन शुक्ल पटना

Email

मानसिक विक्षिप्त

पुराने मटमैले कुचले फटे कपड़े पहने
धूल धककर से सने
गली और रोड पर
रेल स्टेशन और
सिनेमा घर के आगे
जब कोई इन्हे कोई
पागल कह पत्थर मार के भागे
मन हो जाता बहुत छुब्ध
क्यों लोगों की बुद्धि हो गयी है लुप्त
मन मे आता है प्रश्न
क्यों दूसरों की इस स्थिति पर लोग करते जश्न
मानसिक विक्षिप्त है कौन
वह बेचारा जिसकी उड़ाई जा रही हँसी
बन रहा जिसका मज़ाक
या
जो
हँसी इनकी उड़ा रहे और कर रहे मज़ाक
शायद ये भूल रहे
जीवन के किसी न किसी मोड़ पर
अपने चेतन मन को खोकर
प्रत्येक इंसान होता है विक्षिप्त
मानसिक विक्षिप्त पर मज़ाक
एक अमानवीय कृत।

राजीव रंजन शुक्ल
पटना

9 COMMENTS

  1. समाज की कड़वी सचाई बायाँ करती बेहतरीन कविताl

    • बहुत बहुत धन्यवाद मैडम , आपकी टिप्पणी सदा प्रोत्साहित करती हैं।🙏

  2. इंसानियत की समझ से ही इस विक्षिप्त का निदान संभव…

  3. Mentally challenged are an integral part of our society. We should always be compassionate. Nice poem Shukla saab.

  4. Bahut ki samayupoyogi kavita hai. Shukla sahab aise hi aur dher saare sundar kavitayen likhte rahen. Ishwar ka ashirwad aap ke saath hain. Om namo shivay

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here