काव्यभाषा : तस्वीरें तेरी मुझसे बातें करती हैं -नीलम द्विवेदी ,रायपुर छत्तीसगढ़

Email

तस्वीरें तेरी मुझसे बातें करती हैं

सोती है जब शाम, निशा के आलिंगन में,
तस्वीरें तेरी मुझसे बातें करती हैं।
भूली बिसरी बातें याद दिला जाती हैं,
मेरी ही बातों पर मुझे हँसा जाती हैं,
सपनों की इक रंग बिरंगी दुनिया में,
तस्वीरें तेरी मुझसे बातें करती हैं।।
झुकी पलक से जाने क्या जादू करती हैं,
घड़ियाँ अपनी सीमा के पार निकल जाती हैं,
मुझे देख जब धीमें- धीमें मुस्काती हैं,
कलियाँ चारो ओर बिखरती जाती हैं,
आँखें मन का सुंदर दर्पण बन जाती है,
सोती है जब शाम, निशा के आलिंगन में,
तस्वीरें तेरी मुझसे बातें करती हैं।।
सपनों की उस रंग- बिरंगी दुनिया में,
कट जाएगी अब तो सारी उम्र मेरी,
अपनी तस्वीरों को मुझसे दूर न करना,
तुझसे भी ज्यादा प्यारी है तस्वीर तेरी,
तुम अक्सर ही रुठ कहीं छिप जाते हो,
तब भी तस्वीरें तेरी मुझसे बातें करती हैं,
सोती है जब शाम, निशा के आलिंगन में,
तस्वीरें तेरी मुझसे बातें करती हैं।।

नीलम द्विवेदी
रायपुर छत्तीसगढ़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here