हॉस्पिटल के संचालक को नोटिस, 24 घंटे में जवाब देना होगा

कोरोना
कोरोना

कोरोना संक्रमित मरीज के इलाज में लापरवाही पर न्यू पाण्डेय हॉस्पिटल के संचालक को नोटिस, 24 घंटे में जवाब देना होगा

होशंगाबाद/21,अगस्त, 2020/ न्यू पाण्डेय हॉस्पिटल संचालक को तथ्य छुपाने, प्राधिकृत अधिकारी को सूचित न करने व कोरोना संक्रमित मरीज के ईलाज में लापरवाही पर नोटिस दिया गया है। जारी नोटिस में कहा गया है कि 24 घंटे के भीतर जवाब प्रस्तुत करे कि कोविड-19 महामारी के समय आपके द्वारा शासकीय आदेशो की अवहेलना तथा मरीजांे के उपचार में घोर लापरवाही क्यों बरती गई। जवाब संतोष जनक न होने पर म.प्र. उपचर्या गृह तथा रूजोपचार संबंधी स्थापनाएं अधिनियम 1973 या संशोधन 2006 नियिम 1997 यथा संशोधित 2007 के तहत कार्यवाही की जाएगी । कलेक्टर श्री धनंजय सिंह के निर्देशानुसार मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुधीर जैसानी ने निजी चिकित्सालय न्यू पाण्डेय हॉस्पिटल संचालक को नोटिस जारी किया गया है।
उल्लेखनीय है कि कोठीबाजार होशंगाबाद निवासी मरीज को निजी चिकित्सालया न्यूपांडे हॉस्पिटल उपचार हेतु लाया गया था एवं इमरजेंसी वार्ड में भर्ती किया गया था और बाद में चिकित्सको की टीम द्वारा मरीज को जबलपुर रेफर किया गया किन्तु मरीज की जबलपुर में मृत्यु हो गई, इसी प्रकार रसूलिया होशंगाबाद निवासी महिला को चिकित्सालय में उपचार हेतु मरीज के परिजनो द्वारा लाया गया था उक्त मरीज को अस्पताल द्वारा मरीज की स्थिति अंत्यंत खराब होने के पश्चात जिला चिकित्सालय के डीसीएचसी में रेफर कर दिया गया था। जिला चिकित्सालय में मरीज के स्वास्थ्य परीक्षण करने पर एसपीओ टू – 70 एवं न्यू पांडे हॉस्पिटल में किये गये एक्सरे में छाती के दोनो तरफ सफेद-सफेद धब्बे पाए गये थे। निजी चिकित्सालय की लापरवाही के कारण मरीज को देरी से जिला चिकित्सालय होशंगाबाद रेफर किया गया जिस कारण से मरीज की मृत्यु हो गई थी। उक्त दोनो प्रकरणो में अस्पताल द्वारा मरीज के उपचार में लापरवाही बरतने तथा मध्यप्रदेश पब्लिक हैल्थ एक्ट 1949 की धारा 71 की उपधारा 2 एवं एपिडेमिक एक्ट 1897 के अंतर्गत दिये गये निर्देश के विपरीत मरीज का लापरवाही पूर्वक उपचार किये जाने एवं प्राधिकृत अधिकारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी एवं सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक होशंगाबाद को इसकी सूचना नही दी गई। जबकि पूर्व में जिले के समस्त निजी चिकित्सालयो के संचालको को कोविड-19 संक्रमण तथा लक्षण आदि के विषय में पत्र के माध्यम से स्पष्ट रूप से सूचित किया गया था कि यदि कोई मरीज सर्दी, खांसी या बुखार से पीड़ित हो तो उसकी सूचना तत्काल प्राधिकृत अधिकारियों को दिया जाने का उल्लेख किया गया था, किन्तु इसके बावजूद भी निजी चिकित्सालय द्वारा जानबूझकर आदेशो की अवहलेना की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here