काव्य भाषा : इन्द्र धनुष के नज़ारे -भावना गौड़ ,ग्रेटर नोएडा(उत्तर प्रदेश)

Email

इन्द्र धनुष के नज़ारे
विधा – हाइकू

1.
इन्द्र धनुष
रंग बहुत प्यारे
छवि विशेष

2.
नभ मंडल
सप्तरंग वर्णित
दिखे चंचल

3.
हल्की फुहार
अपनी छटा रूप
मन को भाये

4.
रूप सुन्दर
मन हैं पुलकित
नीले अम्बर

5.
स्वर्णिम छटा
अनुपम है दृश्य
अनेक रंग

6.
मौसम आया
रिमझिम बारिश
सुहानी छाया

7.
नील गगन
मन हुआ विभोर
हर्षित मन

8.
अमृत वर्षा
इंद्रधनुष हर्षा
बादल गर्जा

9.
आये बादल
करें है अठखेली
रंग धनुष ।

भावना गौड़
ग्रेटर नोएडा(उत्तर प्रदेश)

5 COMMENTS

  1. बहुत बहुत सादर धन्यवाद आदरणीय जी,युवा प्रवर्तक में मेरे रचना को स्थान प्रदान करने के लिए हृदय से सादर आभार🙏🙏

  2. बहुत सुंदर। बहुत दिनों बाद हाइकू पढ़ने को मिले। विधा को बचाये रखने का बहुत सराहनीय प्रयास है। भावना जी बधाई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here