विविध राज्यों के बच्चों का चार भाषाओं में ऑन लाइन काव्य समागम

विविध राज्यों के बच्चों का चार भाषाओं में ऑन लाइन काव्य समागम

तारीख 23 जुलाई 2020 को सावन तीज के महापर्व पर प्रवासी साहित्यिक संभार मंच पर चार भाषा में संस्कृत , हिंदी , अंग्रेजी , उड़िया में कई सारे राज्यों के विविध वेश भूषा , जाति -पॉति भाषा भाषी , सभी उम्र के बच्चों ने कविता , कहानी , भारतीय संस्कृति के श्लोक आदि साहित्यिक विधाओं में राष्ट्रीय कार्यक्रम किया ।
मुझे विविधता में एकता का भारत नजर आया ।

ऐसे भव्य साहित्यिक समागम में मैंने निर्णायिका की भूमिका निभाई । श्री अरुण पांडा चीफ स्पीकर थे और मैत्री कामिला इस संस्था की जन्मदात्री और आयोजक थी ।
इस मंच कोरोना काल में नकारात्मक विचारों जैसे डर,चिंता, हताशा, अवसाद आदि को दूर करने के लिये साकारकात्मक रचनात्मक काम किया ।

इस गूगल साहित्यिक मीट पर विविध राज्यों के बच्चों ने उत्साह से ऑन लाइन भाग लिया । साहित्यिक राष्ट्रीय आयोजन में छात्र , छात्राओं में कविता वाचन में कुछ विटामिन की कमियां नजर आयी । घर पर बैठ के बच्चों में स्टेज फेयर विश्वास, साहस , भाव मुद्रा बोलने में उतार – चढ़ाव आदि की कमी थी । इसमें सुधारात्मक मन विटामिन का सेवन करने से हमें कोरोना की हर चुनौती को स्वीकार करने में सक्षम बनायेगा।अतः नित्य बच्चों को प्रेक्टिस कराएँ ।
तभी प्रतिभा में निखार आएगा वहीं कुछ बच्चे असाधारण प्रतिभा के धनी थे । उनके सारे मन विटामिन प्रतिभा से लबालब भरे थे ।
बच्चों के सुखद उज्ज्वल भविष्य की कामना करती हूँ ।

डॉ मंजु गुप्ता
वाशी , नवी मुंबई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here