काव्य भाषा : कैसे गाएं गीत मल्हार- डॉ संगीता तोमर, इंदौर मध्यप्रदेश

Email

कैसे गाएँ गीत मल्हार

हृदय की व्यथा कहे
विषाद में डूबे गहरे बादल
उमड़ घुमड़ बरसे बादल
ऐसे बरसे जैसे रोए ममता
अपने होनहार कि छाती पर
घर -बार ,आंगन, मुस्कान
सब बहा ले जाए ये सैलाब
कैसे गाएँ गीत मल्हार

बाहर पड़ती फुहारों को
टकटकी लगाए खिड़की से ताकता बचपन
बीती ऋतु को याद करता
दूर खड़ा मदमस्त बचपन
ना छप- छप की आवाज़ है आई
ना कागज़ की नाव चलाई
नन्हीं कली बरखा में भी कुम्हलाई
कैसे गाएँ गीत मल्हार

बाबुल का आंगन है सूना
खाली पड़ा सावन का झूला
ना हरी लहरिया चुनरी सजाई
ना स्वप्नों की पींगे बढ़ाई
बाट जोहती है मेरी माई
ना सखियों संग हंसी ठिठोली
खाली है खुशियों की झोली
कैसे गाएँ गीत मल्हार

बरखा में भीगे ना मन
गीली दूब पर सूखा मन
अंखियों की बौछारों से पलके भीग जाए
जब नयना प्रिय के दरस को तरस जाएं
यादों की सौंधी खुशबू से तन मन भीग जाए पर
क्षुधा शांत ना होअंतर्मन की
कैसे गाएँ गीत मल्हार

डॉ संगीता तोमर
मौलिक व स्वरचित
इंदौर मध्यप्रदेश

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here