काव्य भाषा : ग़ज़ल – ऋषभ तोमर,अम्बाह मुरैना

Email

गजल

कदम नेह के पथ पे रखना संभलकर
नहीं तो किसी पग गिरोगे फिसलकर।

ये तुम्हें रोकना, चाहता जग है सारा,
बढ़ो आगे सबके मनसूबे कुचलकर।

न मिल पाये तो भी कहे जग तुम्हारी,
दिखा दो सभी को किस्मत बदलकर।

लड़ के भला जीत जाना भी क्या है,
ह्रदय जीत के तुम बनो तो सिकंदर।

मोहब्बत की राहें तो जोखिम भरी हैं,
चलो तो ही, रुकना नहीं हो जो थककर।

लगन भागीरथ सी लगाई गर तुमने,
स्वर्ग से आयेगी गंगा उतरकर

लकीरों की परवाह मोहब्बत करे क्या,
ऋषभ प्यार ने कब है देखा सम्भलकर

ऋषभ तोमर
अम्बाह मुरैना
मध्यप्रदेश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here