काव्य भाषा : मैं जायदाद क्यूँ – ज्ञानवती सक्सेना

Email

मैं जायदाद क्यूँ

हम नदी के दो किनारे हैं
हम नदी के दो किनारे हैं
जब चलना साथ साथ है
तो इतना आघात क्यूँ
तुम ,तुम हो तो
मैं मैं क्यूँ नहीं
मैं धरा हूँ तो कोतुम गगन क्यूँ नहीं
मैं बनी उल्लास तो
तुम विलास क्यूँ
मैं परछाई हूँ तुम्हारी
फिर अकेली क्यूँ
तुम एक शख्सियत हो तो
मैं मिल्कियत क्यूँ
तुम एक व्यक्ति हो तो
मैं एक वस्तु क्यूँ
तुम्हारी गरिमा की वजह हूँ मैं फिर इतना अहम् क्यूँ
तुम मेरी कायनात हो तो
मैं जायदाद क्यूँ
मैं सृष्टि हूँ तो
तुम वृष्टि बन जाओ
मैं रचना हूँ तो
तुम संरचना बन जाओ
फिर देखो
पतझड़ भी रिमझिम करेंगे
और बसंत बौराएगी
संघर्ष की पथरीली राह भी मखमली हो जाएगी
नई भोर की अगवानी में
संध्या भी गुनगुनाएगी।

– ज्ञानवती सक्सैना

टीप : कृपया अपना सम्पर्क सूत्र भी लिखा कीजिए

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here