काव्य भाषा : शिव स्तुति – सुषमा दिक्षित शुक्ला ,लखनऊ

शिव स्तुति

रोम रोम में शिव हैं जिनके ,
विष पिया करते हैं ।

दुख दर्द जला क्या पाएगा ,
जो अंगारों से सजते हैं ।

मां सती बिछड़कर जब शिव से,
सन्ताप अग्नि में समा गई।

प्रायश्चित पूरा होते ही ,
फिर मिलन हुआ जब उमा हुई।

सागर मंथन का गरल पान ,
देवों को अमृत सौंप दिया ।

सोने की नगरी रावण को
खुद पर्वत पर्वत वास किया।

सारे जग को देखे वैभव ,
पर खुद वो भस्म रमाते हैं।

वो महाकाल,वो शिव शंकर,
वो भोलेनाथ कहाते हैं ।

सच्ची निष्ठा के बलबूते,
शिव शंकर का अनुराग मिले ।

फिर उनका तांडव क्रुद्ध रूप,
भोले भाले शिव में बदले ।

कुछ विधि का लिखा हुआ,
होता,कुछ कर्मो का फल होता ।

सब दुख भूलो शिव भक्त बनो,
वही है सबके परमपिता ।

रोम रोम में शिव है जिनके ,
विष वहीपिया करते हैं ।

दुख दर्द जला क्या पाएगा,
जो अंगारों से सजते हैं।

सुषमा दिक्षित शुक्ला
लखनऊ

    आवश्यक सूचना

    कमेंट बॉक्स में अपनी प्रतिक्रिया लिखिए तथा शेयर कीजिए।

    इस तरह भेजें प्रकाशन सामग्री

    अब समाचार,रचनाएँ और फोटो दिए गए प्रारूप के माध्यम से ही भेजना होगा तभी उनका प्रकाशन होगा।
    प्रारूप के लिए -हमारे मीनू बोर्ड पर अपलोड लिंक दिया गया है। देखें तथा उसमें ही पोस्ट करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here