काव्य भाषा : शून्य – राजीव रंजन शुक्ल , पटना

Email

अध्यात्म ,विज्ञान और गणित शून्य के महत्व को स्वीकार करता है। हमारे लिए गर्व की बात है की शून्य के अस्तित्व को, इसकी अवधारणा को सबसे पहले भारतवर्ष में पहचाना गया। शून्य केवल दाशमिक अंक नहीं है बल्कि यह गंभीर संदेश भी देता है । शून्य अपूर्ण भी है और पूर्ण भी। शून्य आदि भी और अंत भी है। यह एक अनुभव है । “शून्य” को समझने की कोशिश मे कुछ पंक्तियाँ ।

शून्य

शून्य शब्द सुनकर लगता
बचा नहीं कुछ है लगता
शून्य मतलब लगता विरान
किन्तु बिना शून्य कहाँ आराम
शून्य से ही सृजन होता
शून्य मे ही भजन होता
शून्य मे ही दुनिया होती विलीन
शून्य से शुरुआत होता प्रत्येक नवीन
विश्व भारत का है ऋणी
शून्य की खोज कर
आर्यभट ने किया गणित और विश्व को धनी
शून्य की देखिए विशेषता
नहीं किसी को भाग करता
अंत नहीं उसे अनंत करता
कोई इससे अपने को जोड़े
या कोई अपने से इसे हटाए
नहीं उसमे यह कुछ परिवर्तन करवाए
गुना जब करे कोई इसके संग
फिर भी नहीं छोड़ता यह अपना रंग
शायद शून्य हमे कुछ कुछ दिखा रहा
शून्य हमे जीने का दर्शन सीखा रहा
शून्य केवल नहीं दाशमिक अंक
शून्य हटे तो राजा बने रंक
शून्य शब्द दर्शन भी है
शून्य दाशमिक अंक भी है
चाहे अंक हो या दर्शन
बिना इसके नहीं है कोई आकर्षण
शून्य विज्ञान का है आधार
शून्य नहीं तो कम्प्युटर बेकार
शून्य से शुरू होती गणनाएँ
पीछे यदि लग जाए
तो संख्या बड़ी बनाए
शून्य ही आकाश हैं, शून्य ही संसार
शून्य नहीं तो शीर्ष है बेकार
जीवन का आदि भी शून्य
जीवन का अन्त भी शून्य
शून्य प्रगति का है मापदंड
लेकिन स्वयं शून्य है अखंड
शून्य चैन हैं,चेतना है
शून्य मौन हैं,शून्य आवाज
शून्य यदि करती उदास मन
तो शून्य ही करती इसका दमन
शून्य अपूर्ण भी है और पूर्ण भी
शून्य साधना भी है और परमानंद भी
शून्य में जन्म लेती कल्पना
तो शून्य में ही उमड़ती भावना
लेकिन हम सभी मे यदि शून्य हो
मानवीय संस्कार और संवेदना
तो समाज के लिए यह है दर्द और वेदना
अपनी मानवीय संवेदना से रहे न हम अंजान
यही तो रही है विश्व में हमारी है पहचान ॥

– राजीव रंजन शुक्ल
पटना

आवश्यक सूचना

कमेंट बॉक्स में अपनी प्रतिक्रिया लिखिए तथा शेयर कीजिए।

इस तरह भेजें प्रकाशन सामग्री

अब समाचार,रचनाएँ और फोटो दिए गए प्रारूप के माध्यम से ही भेजना होगा तभी उनका प्रकाशन होगा।
प्रारूप के लिए -हमारे मीनू बोर्ड पर अपलोड लिंक दिया गया है। देखें तथा उसमें ही पोस्ट करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here