विविध : क्रांतिकारी कलम – अंनत धीश अमन,गया जी

Email

क्रांतिकारी कलम

कलम का सुनहरा समय समाज एंव परिस्थितियों की कसौटी के प्रहार सहकर निखरता है, कलम एक क्रांतिकारी यंत्र है जिसका इंधन स्याही और इंजन इंसान का ज्ञान है समाज, राष्ट्र और संसार इसका पथ है। इसके अवरोधक समाज की कुरीति और बुराईयां है, किंतु कलम क्रांति है और क्रांति ज्ञान के द्वारा स्थापित होता है और कलम का मित्र ज्ञान है।
तुलसीदास राम वंदन करते है, साहित्य के परिचायक रुप में उभरते है, सूरदास, मिरा, विधापती, कबीर और रहीम आदि साहित्य, भक्ति समाज में स्थापित करते है।
समय और समाज के वास्तविकता को प्रेमचंद अपने शब्दो से समाज मे उजागर करते है, रविन्द्र नाथ टैगोर, स्वामी विवेकानंद, अज्ञेय, बालगंगाधर तिलक,भगत सिंह इत्यादि देश, धर्म और साहित्य का विवेचना करते है।
किंतु क्रांति का अर्थ संघर्ष करना है संघर्ष तबतक नही थम सकता जबतक समाज, राष्ट्र और संसार में ज्ञान, शांति और दूरदर्शिता स्थापित ना होता हो। ज्ञान का प्रिय मित्र कलम है और कलम का श्रेष्ठ मित्र ज्ञान है। ज्ञान क्रांति है जो सुरक्षा कवच है संसार का, कलम यौद्धा है ज्ञान का।।

अंनत धीश अमन,
गया जी

    आवश्यक सूचना

    कमेंट बॉक्स में अपनी प्रतिक्रिया लिखिए तथा शेयर कीजिए।

    इस तरह भेजें प्रकाशन सामग्री

    अब समाचार,रचनाएँ और फोटो दिए गए प्रारूप के माध्यम से ही भेजना होगा तभी उनका प्रकाशन होगा।
    प्रारूप के लिए -हमारे मीनू बोर्ड पर अपलोड लिंक दिया गया है। देखें तथा उसमें ही पोस्ट करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here