काव्य भाषा : ऑनलाइन – राजीव रंजन शुक्ल,पटना

Email

ऑनलाइन

अ अ अ अ अ ………
ओ , ओ , ओ ………..
क्या मेरी आवाज आ रही
आवाज आ रही क्या मेरी
क्या मै दिख रहा हूँ
अब ठीक है क्या
की हो रही बात
जी हाँ ऑनलाइन की ही हो रही बात
शुरू हुई पढ़ाई ,ट्रेनिंग और बेबीनार ऑनलाइन
सबने करना शुरू किया इसमे जॉइन
चूंकि है यह है कई के लिए एक नई शुरुआत
ऑनलाइन मे हो रही है समस्या की होती प्रतिदिन बात
ऑनलाइन ट्रेनिंग शुरू हुई जी
पढ़ाने जब आए गुरु जी
बीच बीच मे किसी किसी के बच्चे की आवाज आई
प्रेशर कुकर ने भी अपनी सीटी बजाई
वक्ता की इको आवाज
और आस पास हो रही बातें
सभी की ध्यान बाटें
मोबाइल की मनभावन रिंग टोन
बीच बीच मे करती थी भंग मौन
जैसे ही टीचर जब कुछ प्रश्न पूछते
उत्तर नहीं पाकर झुँझलाते
क्योकि उत्तर तो है एक समान
सर
नेट कनैक्शन ने छोड़ दिया है साथ
चलिये बात तो है यह हास्य परिहास
सभी की सहभागिता
देती एक मजबूत विश्वास
आपातकाल मे महामारी से जब सभी थे भयग्रस्त
प्रतिदिन की नकारात्मक्ता से
जीवन लग रहा था अस्त व्यस्त और पस्त
इस नैराश्य से ग्रसित होने की बजाए
सोचा गया एक उपाय
प्रयासरत थे सभी कई माह से
मिलों दूर अपने अपने आवास से
कागज ,कलम अभी हुई है पुरानी बातें
चले हम ऑनलाइन से ही अभी एक दूसरे के विचारों को बांटे
ऑनलाइन और पढ़ाई का किया गया मंथन
कई प्रतिष्ठानों ने किया इसका मंचन
सेमिनार की जगह वेबिनार की लगी होड़
विचारों के आदान प्रदान को मिला नया मोड
प्रतिदिन की नकारात्मक्ता जीवन को कर रहा था
अस्त व्यस्त और पस्त
इस नैराश्य से ग्रसित होने की बजाए
ऑनलाइन की उपलब्धता ने नैराश्यता से हमे बचाया
अति सूझम अदृश्य जीव जनित करोना के
नकारात्मक प्रभाव को कैसे करे विफल हमे सिखाया ॥

राजीव रंजन शुक्ल,
पटना (बिहार )

आवश्यक सूचना

कमेंट बॉक्स में अपनी प्रतिक्रिया लिखिए तथा शेयर कीजिए।

इस तरह भेजें प्रकाशन सामग्री

अब समाचार,रचनाएँ और फोटो दिए गए प्रारूप के माध्यम से ही भेजना होगा तभी उनका प्रकाशन होगा।
प्रारूप के लिए -हमारे मीनू बोर्ड पर अपलोड लिंक दिया गया है। तथा उसमें ही पोस्ट करें।

4 COMMENTS

  1. ऑनलाइन की उपयोगिता पर बहुत ही सुन्दर रचना। अब तो सभी को कमोबेश ऑनलाइन पर निर्भर रहना होगा।

  2. कोविड ने हमारे रहने सहने और कार्य करने की शैली को परिवर्तित कर दिया है।अब आभासी दुनिया में रहने और रिश्तों को समेटने की मजबूरी है।बहुत अच्छी कविता।
    शुभकामनाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here