काव्य : हो ऐसा संकल्प हमारा – प्रदीप छाजेड़ बोरावड़

60

नेताजी सुभाष चंद्र बोस जन्मजयंती –

हो ऐसा संकल्प हमारा

हो ऐसा संकल्प हमारा –
जीवन के कोने – कोने
पर नैतिकता को अपनाना है ।
कितने जन्मो की पुणयायी
से मिले मानव जीवन को
मानव बन हमको दिखलाना हैं ।
कभी – कभी चलने वाले को
ठोकर भी लग जाती है ।
कभी – कभी अनचाही
अतिरिक्त झड़ियाँ उग जाती है ।
इसी तरह सत्पथ की राह पर अपनी
भूल सुधार कर हमको आना है ।
सभी तरह के गलत आचरण
को हमे छोड़ देना है ।
मन को भाईचारे के पावन
धागे से जोड़ना है ।
गुणों को जीवन में
लाकर आगे बढ़ते जाना है ।
सभी तरह के नशे से
हमको दूर रहना है ।
व्यसनों के घेरे में
हमको नहीं फँसना है ।
सदाचार के पथ पर चल
मंज़िल को पाना है ।
छोटे – छोटे संकल्पों को
जीवन में अपनाना है ।
मानवता की सेवा का
पावन संकल्प निभाना है ।
भारत माता के सपूत
नेताजी सुभाष चंद्र बोस के
महान कृतित्व को स्मरण रखना है।
हो ऐसा संकल्प हमारा ।

प्रदीप छाजेड़
बोरावड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here