Devendra Soni November 30, 2018

कविट्स ” जल होगा तो कल होगा ” जल होगा तो कल होगा, अन्यथा समूल नाश का पल होगा। धिक्कारेंगी पीढ़ीयाँ हमको, पास ना कोई हल होगा।। जल जीवन का आधार है, व्यर्थ इसे बहाओ ना। मिट जायेगी हस्ती हमारी, तनिक समय गवाओ ना।। जंगल,जीव,जन्तु,पक्षी,प्राणी कोई ना बच पाएगा। भट्टी बन जायेगी धरतीं, सबकुछ जल […]

Devendra Soni November 30, 2018

सशस्त्र सेना झण्डा निधि में योगदान की अपील जिला सैनिक कल्याण अधिकारी, शौर्य चक्र कर्नल यशवंत कुमार सिंह (से.नि.) ने शासकीय-अशासकीय संस्थानों, नागरिकों और छात्र-छात्राओं से इस वर्ष भी ‘सशस्त्र सेना झण्डा निधि’ में अधिक से अधिक योगदान देने की अपील की है। सशस्त्र सेना झण्डा निधि का उद्देश्य भारतीय नागरिक, सैनिकों के बलिदान और […]

Devendra Soni November 30, 2018

विश्व विकलांग दिवस के अवसर पर नि:शक्त बच्चों की खेलकूद प्रतियोगिता 3 दिसम्बर को होशंगाबाद/30 नवम्बर 2018/ नि:शक्त कल्याण एवं सामाजिक न्याय विभाग के तत्वावधान में आगामी 3 दिसम्बर को पुलिस परेड ग्राउंड होशंगाबाद में नि:शक्त बच्चों की खेलकूद प्रतियोगिता का आयोजन किया जायेगा। तत्संबंध में आज जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी पीसी शर्मा […]

Devendra Soni November 30, 2018

शांतिपूर्ण मतदान के लिए कलेक्टर ने मतदाताओं, मतदान कर्मियों, पत्रकारों और राजनैतिक दलों का माना आभार होशंगाबाद/30 नवम्बर 2018/ जिले के सभी विधानसभाओं में स्वतंत्र, निष्पक्ष, सुगम और पारदर्शी मतदान शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न होने पर कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी प्रियंका दास ने जिले के नागरिको, मतदाताओं, सुरक्षा बलों, मीडिया कर्मियों, अभ्यर्थियों और राजनैतिक […]

Devendra Soni November 30, 2018

कविता दहशत ये कैसी दहशत छायी है आवाज नहीं कुछ आयी है रोना चिल्लाना चीख चीख कानों को नहीं सुनाई है। पीड़ा तुम उसकी क्या जानो जो पीड़ित हरदम रहती है तेरी अय्यासी के खातिर वो दर दर ठोकर सहती है। कभी उसके बारे में सोचे अब हाल भी उसका क्या होगा दुष्कर्म जो उसके […]

Devendra Soni November 30, 2018

गीत मै किसानी के लिए पैदा हुआ हूं। आजतक खुद से यही कहता रहा हूं। दर्द जितने भी मिले सब सह लिए हैं। झोपड़ी में देख लो हम रह लिए हैं। आप दिल्ली से हमें दुत्कारते हो। गर पलटकर कुछ कहें तो मारते हो। सोचता हूं दूध सर्पों को पिलाकर। क्या मिला इस देश को […]

Devendra Soni November 30, 2018

लघूकथा – हाथी के दांत शहर के जाने माने रईस गोवर्धनजी एक भव्य समारोह में हजारों गरीब लोगों को कम्बल और स्वेटर वितरित कर अपनी कार से घर लौट रहे थे। लोगों द्वारा की गई प्रशंसा और तालियों की गड़गडाहट अब भी उनके कानों में गूँज रही थी। तभी गाड़ी के अचानक रूकने से उनकी […]

Devendra Soni November 30, 2018

दिल का टुकड़ा ************** रेत की ढेरी थी, दिल का टुकड़ा था, तसव्वुर-ए-इश्क पर यूँ ही वो फिसला था। आबशार-ए-मोहब्बत, यूँ ही बह था रहा, न था होश किसी का, न कोई सुन या था कह रहा। मुद्दतों से यादों की गिरफ्त में, मुक़म्मल होने की इंतज़ार में, अपने आफताब ए इश्क को, सहरा सहरा […]

Devendra Soni November 30, 2018

*माँ* गीत नहीं सृजनकार तुझसा, कोई मैंने पाया संसार सारा तो तुझमें ही समाया । भोर में गूँजती वो तेरी आवाज खनखनाती चूडियों का साज घर को सारे ही ,जिसने जगाया संसार सारा …। सूरत तेरी ही तो माँ मैंने है पाई समाई है जिसमें खुदा की खुदाई खुदा भी तो तुझे नमन करने आया […]

Devendra Soni November 30, 2018

इक दिन की जिंदगी ~ इक दिन की जिंदगी, या हो चार दिन की जिंदगी हँसते गाते पल बिता लो छोटी सी है जिंदगी रहना जग में बन्दे ऐसे ,जैसे कमल का फूल हो कीचड ऊपर खिल मुस्कुराये नीचे रह जाए धूल हो रिश्ते नाते सब निभाना, बस निर्लिप्त मन को बनाना दिल दुखाया जो […]