Breaking News
Devendra Soni May 25, 2020

ज्ञान विज्ञान संस्थान के तत्वावधान में ई वीडियो कवि गोष्ठी हुई नोएडा। ज्ञान विज्ञान संस्थान के तत्वावधान में आज एक ई वीडियो कवि गोष्ठी विनय विक्रम सिंह के तकनीक संयोजन और संचालन में सम्पन्न हुई, जिसकी अध्यक्षता सच्चिदानंद तिवारी शलभ ने की. गोष्ठी में सर्वप्रथम काव्यपाठ दिल्ली की कवयित्री केशी गुप्ता ने किया जिनकी इस […]

Devendra Soni May 25, 2020

नदी और जल तुम हो कल-कल करती नदिया,मैं हूँ तुझमें बहता जल, तेरे मन के आश्रय से ही, उन्नत होगा मेरा कल। तुम हो चञ्चल बहती धारा, मैं बसता हूँ तेरे अन्तर, लहरा के बल खाके बहना मुझको लिए हृदय के अन्दर। साथ चले हैं सतत चिरन्तन, मिले रुकावट या अरिदल, तुम हो कल-कल करती […]

Devendra Soni May 25, 2020

“कभी खुशियां ,कभी गम हम मनाते रहे” (1) कभी खुशियां ,कभी गम हम मनाते रहे, जीवन की डगर में हर गीत गुनगुनाते रहे।। कभी आपको, कभी हम खुद को सताते रहे मोती जैसे आंसुओ से हम चेहरे को सजाते रहे।। दिल की आग को ,कोशिशों की बारिश से बुझाते रहे कभी खुशियां ,कभी गम हम […]

Devendra Soni May 25, 2020

फूल और काँटे राशि का उदास चेहरा उसकी माँ से देखा नहीं जा रही था।पता नहीं वह अपनी शारीरिक बनावट को लेकर इतनी परेशान क्यों रहती थीं ?बेटी बताओ तुम इतनी अधिक उदास क्यों हो ? माँ चार महीने बाद कॉलेज में कथककली डांस प्रतियोगिता आयोजित हो रही हैं।मैं भी इसमें भाग लेना चाहती हूँ। […]

Devendra Soni May 25, 2020

कविता “खुशी के लिये” पढ़ाई छुड़वा कर कम उम्र में, उसकी शादी कर दी, घर वालों की खुशी के लिये। हर सुख-दुख, उतार-चढ़ाव को वो चुपचाप सहती रही, अपनों की खुशी के लिये। वो एक अच्छी बेटी, अच्छी पत्नी और अच्छी मां बनी, उसकी जिंदगी अर्पण हो गई, जिससे जुड़ी उसी के लिये। और आज […]

Devendra Soni May 25, 2020

”जिंदगी मिट्टी और मैं” जिंदगी कर रही है नित नए प्रयोग रोज मुझ पर बना के अपनी प्रयोगशाला कभी आजमा रही है मुझे मैदान में जंग के लड़ा भिड़ा रही है कभी कभी लगी है कोशिश में तोड़ने की मुझे बल से,रिश्ते-नातों से,भावनाओं से कभी ले रही है इम्तिहान कड़ाई से बिन बताए,बिन पढ़ाए पर […]

Devendra Soni May 25, 2020

लघुकथा जीवन यात्रा आज माया बड़ी उद्विग्न थी।उसे अपने पति पर बड़ा क्रोध आ रहा था।जीवन जी से पत्नी के ये भाव छिपे नहीं थे।उन्होंने पत्नी से पूछा– “क्या बात है माया!हमेशा खुश रहने वाली आज इतनी उद्विग्न क्यों?” माया क्रोधित मुद्रा से पति की ओर देखती हुई बोली– “देख रही हूँ अपने दानी पति […]

Devendra Soni May 25, 2020

जैव विविधता पेड़ – पौधे, पशु और पक्षी, निवास है जिनके ये संसार।। कहीं वन – उपवन कहीं हिमालय, नदियाँ या फिर वृक्ष के सहारे।। प्रजातियाँ हैं विभिन्न सबके, जीव – जंतु और वनस्पतियों के। कहलाते है यही जैव विविधता, अस्तित्व है यही मानव का।। जैव विविधता है बहुत जरूरी, सुन लो सब बात हमारी। […]

Devendra Soni May 25, 2020

अम्फान सागर की लहरों की मदमस्त प्यास को तो देखो। उसकी प्रेयसी पृथ्वी से मिलने की आश तो देखो। जल्द ही आलिंगन करना चाहता है वो कायनात को। उसके उतावलेपन की तीब्रता की आँच को तो देखो। वो भूखा है प्यासा है धरा से मिलन की रत में रती है। उसमें इश्क व मासूक के […]

Devendra Soni May 25, 2020

संस्मरण – संगीतमय मेरी जन्मभूमि ग्वालियर एक ऐतिहासिक शहर!!! मेरा शहर ग्वालियर,,मप्र राज्य का एक विकसित शहर ग्वालियर।मेरा शहर,कहना उचित नहीं होगा क्यूँकि ग्वालियर हर उस व्यक्ति का शहर है जिसके तन और मन में संगीत बसता है और संगीत तो सभी के मन में बसता है तो ये सभी का शहर हुआ ना। सन […]