नगर पालिका ने स्वच्छ सर्वेक्षण 2019 की तैयारी तेज की जनता के फीडबैक से होगा काम का मूल्यांकन

नगर पालिका ने स्वच्छ सर्वेक्षण 2019 की तैयारी तेज की
जनता के फीडबैक से होगा काम का मूल्यांकन

इटारसी। स्वच्छ सर्वेक्षण 2019 में शहर को अव्वल नंबर पर लाने के लिए नगर पालिका ने अपनी तैयारी में और तेजी लाना प्रारंभ कर दिया है। आचार संहित के दौरान अमले की कमी से इस वर्ष स्वच्छ सर्वेक्षण का काम कुछ धीमा चला था। आज नगर पालिका के स्वच्छता विभाग की मीटिंग में काम में तेजी लाने के निर्देश के साथ ही कर्मचारियों को ताकीद कर दिया है कि इस संबंध में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी, क्योंकि शहर की स्वच्छता में कर्मचारियों की मेहनत और ईमानदारी ही सबसे महत्वपूर्ण है।
शहर को स्वच्छता में नंबर वन बनाने के लिए आज नगरपालिका के सभाकक्ष में स्वास्थ्य समिति के सभापति राकेश जाधव ने वार्ड जमादारों को स्वच्छता अभियान की जानकारी देते हुए कहा कि इंद्रधनुष की तरह 7 रंगों की तरह स्वछता की मॉनिटरिंग की जाएगी। उन्होंने कर्मचारियों से कहा कि अब मैदान में जाकर जनता से ही फीडबैक लिया जाएगा। यदि जनता काम से संतुष्ट नहीं होगी तो वार्ड जमादारों की जिम्मेदारी तय की जाएगी। श्री जाधव ने वार्ड जमादारों से कहा कि अब फील्ड पर पब्लिक फीडबैक से आपके कामों का मूल्यांकन किया जाएगा। प्रत्येक कर्मचारी 5 लोगों से फीडबेक लेगा और वार्ड में जनता से शिकायत आने पर कर्मचारियों की लापरवाही हर्गिज बर्दाश्त नहीं की जाएगी। बैठक में स्वच्छता निरीक्षक आरके तिवारी, स्वच्छता अधिकारी और प्रभारी सीएमओ सुनील तिवारी, स्वच्छता सर्वेक्षण से जुड़े कमलकांत बडग़ोती, जगदीश पटेल सहित स्वच्छता विभाग के समस्त कर्मचारी मौजूद थे
स्वच्छ सर्वेक्षण में होगा यह सब
-जनवरी माह से सभी कर्मचारी अपनी ड्रेस में नजर आएंगे।
-वार्ड में जनप्रतिनिधि और जनता के साथ चलेगा अभियान।
-गीला कचरा और सूखा कचरा अलग रखने पर जोर देंगे।
-कालोनियों में लोगों को कम्पोज़ खाद बनाने प्रेरित करेंगे।
-अभियान की मॉनिटरिंग के लिए बनाए जाएंगे सात जोन।
इन बिन्दुओं पर हुई बैठक में चर्चा
अभियान की जानकारी देने के बाद फील्ड पर जो सफाई पर्यवेक्षक काम कर रहे हैं एवं काम करा रहे हैं उनसे क्या कमियां आ रही हैं, उन कमियों को कैसे दूर कर सकते हैं, उनकी समस्याओं का निराकरण किस प्रकार कर सकते हैं, यह जानकारी ली। इस दौरान निर्देश दिए कि निर्माण कार्य के दौरान निकला मलबा नाली एवं रोड पर डाल दिया जाता है, उस पर तुरंत कार्रवाई की जाए, बोरिंग बोरिंग मशीन के माध्यम से जो भी नागरिक बोर कराते हो उसका जो मलबा निकलता है वह नाली में ना बहाएं इस बात का ख्याल रखा जाए। स्वास्थ्य सभापति राकेश जाधव ने कहा कि ऐसे लोगों पर कार्यवाही कर चालान किया जाएगा।
ऐसी होगी सतरंगी लाइफ
नागरिकों से अपील की है कि अपने शहर को नंबर वन बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ें, स्वच्छता जागरूकता अभियान सतरंगी लाइफ के अंतर्गत निकाय में आगामी 1 सप्ताह तक विभिन्न जागरूकता गतिविधियां होंगी जिनका उद्देश्य प्रदेश के शहरों में नागरिकों को स्वछता का वातावरण निर्माण करना है। अभियान के दौरान प्रचारित प्रसारित किए जाने वाले प्रमुख विषय घरों से कचरा संग्रहण व्यवस्था और पृथककरण को प्रभावी रूप से लागू करना, घरों में हरी और नीली डस्टबिन का प्रयोग करना, घरेलू कंपोस्ट बनाने वालों में स्वच्छता सुनिश्चित करना, सार्वजनिक शौचालय का उपयोग, नागरिकों को स्वच्छता से जोडऩा एवं उनके नेतृत्व में स्वच्छता के संदेश को प्रसारित करना जैसे कार्यक्रम होंगे।यह तय किया कि स्वच्छता सिर्फ सफाई होना ही नहीं है, इसमें स्वच्छ रहने से लेकर स्वच्छता बनाए रखने तक के भाव और जिम्मेदारी भी शामिल है। इस प्रकार स्वच्छता को व्यवहार अपनाकर हम शहरी स्वच्छता और अपने जीवन में खुशियां के 7 रंग भर सकते हैं।

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*