Devendra Soni February 13, 2020

माता के लाल

वो वीर शहीद माता के लाल नमन उन्हें मैं करती हूं
प्राण निछावर किए उन्होंने तो याद उन्हें में करती हूं
वो वीर शहीद माता के लाल नमन उन्हें मैं करती हूं
सीमा पर प्रहरी बनके खड़े फौलादों से नहीं डरते वो
जान लुटा कर देखो अपनी वतन की रक्षा करते वो
प्रतिपल नमन करूं मैं उनको प्यार वतन से करती हूं
वो वीर शहीद माता के ………….
त्याग तपस्या बलिदानों का पाठ पढ़ाया उन वीरों ने
दुश्मन के आगे झुके नहीं सर अपना कटाया वीरों ने
हर क्षण उनके आदर्शों पर चलकर मैं आगे बढ़ती हूं
वो वीर शहीद माता के लाल……
भगत सिंह झूले फांसी पर राणा ने घास की रोटी खाई थी
पर स्वाभिमान ना भूले वो अंग्रेजों को आग लगाई थी
उन पावन दिल के लोगों पर जाँ कुर्बान मैं करती हूं
वो वीर शहीद माता के ………
इस जग में मां के वीरों का अब सम्मान नहीं होता
तभी तो यह प्यारा भारत घायल होकर है रोता
पावन रिश्ता इस मिट्टी से इसकी खुशबू से फूल खिले
नहीं चाहिए सोना चांदी बस मुझको मेरा देश मिले

स्वरचित
ऋचा मिश्र “रोली”
ग्राम:- सिरसिया
जिला:-श्रावस्ती
उत्तर प्रदेश

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*