ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान द्वारा 30 दिवसीय ब्यूटी पार्लर मेनेजमेंट प्रशिक्षण शुरू

ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान द्वारा 30 दिवसीय ब्यूटी पार्लर मेनेजमेंट प्रशिक्षण शुरू

होशंगाबाद/03,दिसम्बर, 2019/ डायरेक्टर आरसेटी होशंगाबाद अनिल मित्रा ने बताया है कि सेन्ट्रल बैंक आफ इंडिया के तत्वावधान में ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान होशंगाबाद में गत 26 नवम्बर से प्रथम बेच का प्रशिक्षण प्रारंभ किया गया जिसमें 25 प्रशिक्षणार्थियों द्वारा भाग लिया गया है तथा द्वितीय बेच का प्रशिक्षण 27 नवम्बर से शुरू हुआ जिसमें 30 प्रशिक्षणाथियों ने भाग लिया है। यह प्रशिक्षण 30 दिवसीय है। उपरोक्त ब्युटी पार्लर मेनेजमेंट प्रशिक्षण के शुभारंभ अवसर पर एलडीएम रमेश हीले, डीडीएम नाबार्ड नरेश तिजारे, एनआरएल प्रबंधक श्रीमती अर्चना शुक्ला, एफएलसीसी काउंसलर आरटी खेड़कर, आरसेटी डायरेक्टर अनिल मिश्रा, फेकल्टि श्रीमती हेमलता बारपेटे, कार्यालय सहायक रामप्रसाद बावनकर एवं समस्त स्टाफ उपस्थित था।
श्री मित्रा ने बताया है कि प्रशिक्षण में होशंगाबाद जिले के ब्लॉक होशंगाबाद, बाबई, सोहागपुर, पिपरिया, बनखेड़ी, केसला एवं सिवनीमालवा के हितग्राहियों ने भाग लिया है। प्रशिक्षण के दौरान प्रशिक्षणार्थी पूरे 30 दिनो तक होस्टल में रहकर प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं। यह प्रशिक्षण पूर्णत: नि:शुल्क होता है। प्रशिक्षण के दौरान यहाँ प्रशिक्षणार्थियों के लिए भोजन एवं आवास की सुविधा भी नि:शुल्क उपलब्ध कराई जाती है।
श्री मित्रा ने बताया है कि यहाँ नि:शुल्क प्रशिक्षण का लाभ होशंगाबाद जिले के ग्रामीण अंचल के निवासी महिला एवं पुरूष जिनकी उम्र 18 से 45 वर्ष के बीच है एवं बीपीएल कार्डधारी हैं, प्रशिक्षण का लाभ ले सकते हैं। प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए पात्र हितग्राही ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान, महिला जेल के पीछे, हाउसिंग बोर्ड कालोनी होशंगाबाद में आकर अपना पंजीयन करा सकते हैं।
संस्थान में महिला सिलाई, मशरूम उत्पादन, डेयरी एवं वर्मी कम्पोस्ट, अगरबत्ती, मोमबत्ती निर्माण, जूट प्रोडक्ट, पेपर बेग, कवर फाईल मेकिंग, पापड़, अचार, मसाला पाउडर निर्माण,, मोबाईल रेपिरिंग, मुर्गी पालन, एलएमव्ही और मोटर ड्रायविंग आदि का प्रशिक्षण दिया जाता है। संस्थान में प्रशिक्षण हेतु 25 से 30 महिला एवं पुरूषो का बेच तैयार होने पर आरसेटी द्वारा उन्हें प्रशिक्षण हेतु बुलाया जाता है।
श्री मित्रा ने बताया है कि संस्थान द्वारा शीघ्र ही जूट प्रोडक्ट उद्यमी एवं महिला सिलाई का प्रशिक्षण प्रारंभ किया जाना प्रस्तावित है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*