Devendra Soni December 2, 2019

देवशीला बिहार काव्योत्सव व सम्मान समारोह बिहार उर्दू अकादमी पटना में सम्पन्न

पटना 01 दिसंबर । बिहार उर्दू अकादमी पटना के सभागार में ‘देवशीला मेमोरियल’ ( साहित्य, सांस्कृतिक एवं समाजसेवी संस्था) का प्रथम आयोजन सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्ज्वलन एवं माल्यार्पण के साथ हुआ।
इस कार्यक्रम की अध्यक्षता जाने-माने शायर और संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष ऐनुल बरौलवी ने किया। अपने सम्बोधन में देवशीला मेमोरियल के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा –
“आज तो शुरुआत है , सोचा बहुत है दूर तक।
माँ-पिता की याद में , कहना बहुत है दूर तक।
कुछ समाजी , कुछ अदब की सोच ज़ेह्न में मेरे ,
साथ मेरे तुम चलो , चलना बहुत है दूर तक।”
सभागार पूरा भरा हुआ था। पूरा सभागार तालियों और वाह-वाह से गूंज रहा था।
कार्यक्रम में देश के नामचीन शायर और कवियों ने शिरकत की। जिसमें छपरा से शकील अनवर और सुहैल अहमद हाशमी तथा पटना के कवि घनश्याम , शायर नसर आलम ‘नसर’ भागलपुर की कवयित्री सोमा आनंद गुप्ता , कवि पूर्णेन्दु चौधरी ,मुजफ्फरपुर की युवा कवयित्री रितु सिंह आदि मुख्य थे। मंच पर ‘देवशीला की संस्थापिका रश्मि अभय के साथ साथ देवशीला के राष्ट्रीय अध्यक्ष ऐनुल बरौलवी एवं सचिव मोहम्मद नसीम अख्तर भी मौजूद रहें। मुख्य अतिथि के रूप में जनाब खुर्शीद अकबर एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में माननीय डॉ मंगला रानी, रत्ना पुरकायस्थ, एवं भावना शेखर जी रहीं। राष्ट्रीय अध्यक्ष ऐनुल बरौलवी ने सभी अतिथियों का अंग वस्त्र एवं स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया। देवशील मेमोरियल द्वारा साहित्य एवं सामाजिक क्षेत्र में समर्पित दो संस्थाओं ‘लेख्य-मंजूषा’ एवं बीइंग हेल्पर को सम्मानित किया गया साथ ही उभरते हुए नवांकुरों को मंच प्रदान कर एवं सम्मानित करके उनके हौसलों को उड़ान देने की कोशिश की गई। मंच संचालन संस्था के राष्ट्रीय सचिव मो. नसीम अख़्तर ने बेहतरीन अंदाज़ में किया।
‘देवशीला मेमोरियल’ की संस्थापिका रश्मि अभय का कहना है कि उनकी संस्था के द्वारा समाज में फैली कुरीतियों को दूर करने की पुरजोर कोशिश की जाएगी।

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*