Devendra Soni October 20, 2019

स्वीकारो या उपेक्षित करो

ये जो संकोच पलता है ना
मन में तुम्हारे
मेरे अस्तित्व को स्वीकारने या
नकारने के लिए
इसे तुम थोड़ा सी ढील दो
देखो मैं कोई पतंग सी
उड़ती हूँ
या तुम्हारे अहं के खूंटे से
बंधी रहती हूँ
इतना ही तो आकलन है
मेरी इस काया का

आत्मा तक कहाँ
पहुँच पाते हो
मेरी आँखों में
तुम्हारा प्रतिबिम्ब
नीले , नभ सा
और तुम थक जाते हो
मेरे माथे के संकुचित लकिरों में
ये भी तो उन ज़िम्मेदारियों की देन हैं
जो तुम्हारे साथ मिली

जानते हो तुम
ना मैं पतंग हूँ
ना खूंटे से बंधी कोई
मूक जीव
मैं तुम्हारे अस्तित्व का
महत्वपूर्ण हिस्सा हूँ
जन्मों से जुड़ा तुम्हारे साथ कोई
किस्सा हूँ
स्वीकारने, नकारने से परे हूँ
तुम अपनाओ या
उपेक्षित करो
हर भाव में बस तुम्हारी

अब आकलन स्वयं का
करो की मैं
तुम्हारी आत्मा के प्यास के लिए
कोई छोटा सा मीठे पानी का
कुँआ बनूँ
या आडम्बर से भरा
विशाल, खारा समुद्र।

_सविता दास सवि,
तेज़पुर, असम

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*