Devendra Soni October 12, 2019

पूर्णता की तलाश

उड़ कर भी देखा आसमान में
तू छुपा था किस जहां में

पूर्णता को तलाशती
पूर्णता की ओर भागती
आठो याम चलती रही
सांँस मेरी फूलती रही

आशा निराशा से घिरी
कभी हंँसती कभी रोती रही
अपना जीवन अपूर्ण लिए
खुद को पाती कभी खोती रही

राह में साथी कोई मिल गया
देखो रास्ता कट गया
मेरा बोझ तो बँट गया
ह्रदय का भार हट गया

क्यों दर-दर भटकती रही
जब तू थी मेरे सामने खड़ी
सांँस देखो थम गई
ज्योतियाँ कुछ दिखने लगी

था वहाँ उजाला बहुत
उजाले को मैंने खींच लिया
पूर्णता को जैसे छू लिया
पर था क्या जीवन पूर्ण वहाँ ?

हौसलों को मजबूत किया
फिर से चलना शुरू किया
पूर्णता की तलाश में
फिर से उड़ना शुरू किया…

पुष्पा सहाय
रांची

10 thoughts on “रांची झारखंड से पुष्पा सहाय की रचना -पूर्णता की तलाश

  1. पूर्णता को परिभाषित करती जीवन के विभिन्न आयामों से अंधेरों से प्रकाश की ओर बढ़ने का प्रयास सरहनीय एवं प्रसंसनीय है।

  2. वाह 👌 बहुत सुन्दर रचना, सुन्दर अभिव्यक्ति

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*