बस्ती उत्तरप्रदेश से नीरज कुमार द्विवेदी की रचना – सरिता भ्रमण

सरिता भ्रमण

बीता जो दिवस तो निशा फिर आई
लेकिन साथ में सोम किरण है लाई
क्षीर सी कौमदी चहुँ ओर है छाई
तटिनी तट घूमने की इच्छा हो आई
शर्वरी की वह बेला ले रही थी अँगड़ाई
पहुँच समीप सरिता जब दृष्टि घुमाई
मन हुआ प्रफुल्लित देख वो अमराई
तरंगिणी अपने दर्प में हिलोरें भी खाई
गंध दूर से मधुमास के पुहुप से आई
तभी कुछ दूर एक रमणी नजर आई
दक्षिण हस्त उसने एक ध्वजा लहराई
तब उस ध्वजा पर अपनी दृष्टि घुमाई
मैंने पढ़ा जो वहां पंक्तियाँ नजर आई
लिखा था हिन्दू_मुस्लिम_सिख _ईसाई
आपस में सब भाई_______भाई

नीरज कुमार द्विवेदी
( उत्तर प्रदेश )
272130

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*