Devendra Soni August 13, 2019

तुम्हारी यादों की थाप

मेरे हृदय पर तुम्हारी यादों की थाप
हल्की सी
और धक्क् से हो जाता है दिल
झक्क् से फैला हो उजाला जैसे
पलकें खुल जाती हैं
अधजागी सी थी
पूरी तरह जाग जाती हूँ
यहां से वहां तक
पाँव के नीचे की धरती से लेकर
दूर आकाश तक तन जाता है
झिलमिली उजालों का इन्द्रधनुष
सात रंगों के अलावा और भी
कितने कितने रंग घुल जाते हैं़
फिजाओं में
पलकें झपकाती हूँ तो
झनझनाहट सी गूंजती है
कहीं कोई सितार जैसी ध्वनि
मद्धिम मधुर मधुर
महसूस होता है ढेर से घुंघरुओं वाली पायल
पाँव में बाँध कर चल पड़ी हूँ
कहीं भी किधर भी
छम छम छम
बेवजह छमछमाकर चलती हूँ पायल
भागते हुए तितलियों के पीछे

महसूस होता है
समुंदर के किनारे खड़ी हूँ
लहरें आती हैं तो दौड़ कर
और आगे चली जाती हूँ
पानी के भीतर
और रुनझुन के स्वर
लहरों पर बिखर बिखर जाते हैं
दूर तक देर तक
ओह
तुम ऐसे घुले हो भीतर भीतर
तुम्हारी यादें ऐसे करती हैं शरारत
तार तार झनकार भर जाती हैं
चाँद तारे जुगनू पंछी या फिर
पुरवाई ही क्यों न हो
सब पूछते हैं हाल
और मैं ऐसे शर्मा जाती हूँ
जैसे नया नया है इश्क हमारा…

शशि बाला,हजारीबाग

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*