चिन्हित बाढ़ प्रभावित क्षेत्रो में बाढ़ से बचाव की समस्त तैयारियाँ सुनिश्चित करें – कमिश्नर

चिन्हित बाढ़ प्रभावित क्षेत्रो में बाढ़ से बचाव की समस्त तैयारियाँ सुनिश्चित करें – कमिश्नर
बाढ़ आपदा प्रबंधन की संभाग स्तरीय निगरानी समिति की बैठक संपन्न
होशंगाबाद/27,जून,2019/ चिन्हित बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में बाढ़ से बचाव की समस्त तैयारियाँ चाकचौबंद रखे यह निर्देश आज नर्मदापुरम् संभाग कमिश्नर रवीन्द्र कुमार मिश्रा ने बाढ़ आपदा प्रबंधन की संभाग स्तरीय निगरानी समिति की बैठक में दिऐ। बैठक में होशंगाबाद, हरदा एवं बैतूल जिले के कलेक्टर्स, पुलिस अधीक्षक सहित अधीक्षण यंत्री तवा परियोजना मंडल होशंगाबाद, अधीक्षक यंत्री जल संसाधन बैतूल, अधीक्षण यंत्री एमपीएसईबी होशंगाबाद, संभाग के तीनो जिलो के कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक, जिला कमांडेंट होमगार्ड होशंगाबाद, कार्यपालन यंत्री तवा, जल संसाधन इटारसी, हरदा, सिवनीमालवा, टिमरनी, सोहागपुर , बैतूल, मुलताई तथा बारना, सहायक यंत्री सीडब्ल्यूसी होशंगाबाद तथा संभाग के तीनो जिलो के मुख्य नगर पालिका अधिकारी उपस्थित थे।
बैठक में संभाग के अंतर्गत निर्मित, निर्माणाधीन सिंचाई योजनाओं के डाउन स्ट्रीम क्षेत्रो में जल निकासी सूचना एवं चेतावनी प्रणाली तंत्र स्थापित करने, बांध स्थल, तहसील एवं जिला स्तर पर स्थित रेनगेंज स्टेशनों पर विगत 5 वर्षो की वर्षा की माहवार एवं अधिकतम दैनिक वर्षा की जानकारी, नर्मदा, ताप्ती, तवा एवं अन्य नदियों पर स्थित गेज स्टेशनों पर विगत 5 वर्षो में अधिकतम बाढ़ स्तर से संबंधित जानकारी, संवेदनशील बांधो की स्थिति एवं निगरानी की व्यवस्था तथा बाढ़ के समय बचाव हेतु किये जाने वाली कार्यवाही की जानकारी, वर्तमान में बाढ़ की सूचना एवं चेतावनी हेतु वायरलेस, दूरभाष अथवा अन्य व्यवस्था आदि की उपलब्धता के संबंध में, बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में पहुँच मार्ग की स्थिति एवं आवश्यक वाहनों की उपलब्धता की स्थिति, बांध स्थल पर विद्युत व्यवस्था एवं विद्युत व्यवस्था में व्यवधान की स्थिति में अन्य वैकल्पिक व्यवस्था, बांधो के रखरखाव की स्थिति एवं चिन्हित बाढ़ प्रभावित क्षेत्रो की जानकारी जोकि बाढ़ से प्रभावित होने के कारण चिन्हित किये गये हैं आदि के संबंध में कमिश्नर ने जानकारी प्राप्त की।
कमिश्नर ने अधिकारियो को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रो, ग्रामो की सूची तैयार कर समय के पूर्व संबंधित ग्रामो में मुनादी कराने के निर्देश दिए। बांधो से पानी छोड़ने के पूर्व प्रभावित होने वाले ग्रामो में सूचना दी जाए और बाढ़ की स्थिति में प्रभावित होने वालो के रूकने के लिए स्थानो/भवनो का चयन तथा वहाँ पर ठहरने, भोजन, पेयजल आदि की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। कमिश्नर ने अधिकारियों से कहा कि बाढ़ की स्थिति में वाट्सएप से मेसेज करने के पश्चात भी प्रमुख अधिकारियों को दूरभाष/मोबाईल पर आवश्यक रूप से सूचित किया जावे। कमिश्नर ने स्वयं की अध्यक्षता में बाढ़ आपदा प्रबंधन समिति का गठन किया। समिति के सचिव मुख्य अभियंता जल संसाधन विभाग होंगे।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*