Devendra Soni April 17, 2019

कायनात एक सा बाँटती है

कायनात एक सा बाँटती है
धूप हवा छाँव सुरमई
नहीं करती कोई भेद भाव कभी
चाहे नन्हीं बूँदें हों या झम झम पानी
लहरें हो हहराती हुई या
झरनों की रवानी
अवनि अंबर क्षितिज सब पर
सबका समान अधिकार
दूब पर मोती बन कर चमकती हुई
सात रंग में टूटी हुई किरणें हों या
नाजुक पत्तों पर सरगम सी बजती
कोमल कलियों और वल्लरियों पर
ता थैया नाचती हुई हवा हो

घनघोर वनप्रदेश में सनसनाहट बन गूँजती
ब्रह्मांड की ध्वनि हो
या धरती पर कतरे कतरे बरसती
चाँदनी हो
कायनात सब को एक सा बाँटती है
माँ की तरह
जिसके नयनों में सब संतानों के लिए
एक सा प्रेम एक सा उजाला होता है।

– शशिबाला , हजारीबाग

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*