दुर्ग से अमित चंद्रवंशी की कविता – संकल्प

संकल्प

आत्मविश्वास जीवन की
जीत का लक्ष्य है
कर्म प्रधान राष्ट्र में
जीत संघर्ष से है
सफलता वर्षों पूर्व
बनाई गई सीढ़ी है
राष्ट्र निर्माण में
बदलाव के दौर में
सीढ़ी के पायदान बदले
रुके नही
लक्ष्य की ओर बढ़े
तटस्थता की ओर
अंतिम समय तक
सीखने के लिए बढ़े
सही मायने में संकल्प
जीवन का आधार है
नवजीवन की
कल्पना मात्र से
कठिन परिश्रम
जीत के रास्ते बनाती है
संकल्प सिद्धि का हो
जीवन अमर हो जाती है
रास्ते कैसे भी हो
चलने की हिम्मत
जो हमे
सभी से अलग बनाती है
दृण सोच
सशक्त समाज की नींव है
मेहनत और आजादी
लक्ष्य के रास्ते का
वह फूल है
जो दृण संकल्प से मिलती है।

-अमित चन्द्रवंशी “सुपा”
बीएससी अध्ययनरत
दुर्ग,साइंस कॉलेज
दुर्ग, छत्तीसगढ़
मो.-8085686829

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*