पाठक मंच होशंगाबाद व्दारा काव्यपाठ का आयोजन

होशंगाबाद। साहित्य अकादमी मध्य प्रदेश संस्कृति परिषद भोपाल से संबद्ध पाठक मंच होशंगाबाद व्दारा काव्यपाठ का आयोजन वरिष्ठ साहित्यिकार खेमचंद यादवेश के निवास ग्वालटोली मे आयोजित हुआ।
कार्यक्रम की अध्यक्षता साहित्यकार श्री जगदीश वाजपेयी,मुख्य अतिथि साहित्यिकार श्री तेजेश्वर प्रसाद मिश्रा, विशेष अतिथि बीना दुबे, डाँ.स्मिता रिछारिया, पाठक मंच संयोजक किशोर करैया की उपस्थिति मे सम्पन हुआ।
कार्यक्रम के प्रारंभ मे उपस्थित अतिथियों ने माँ सरस्वती का पूजन ,दीप प्रज्वलित किया,स्वागत भाषण केप्टिन करैया ने दिया।
काव्यपाठ सत्र मे उपस्थित साहित्यिकरो ,कवियों ने ओज,व्यंग्य,हास्य, एंव करुण रस की एक से बढकर एक कविता प्रस्तुत की। जिसमें तेजेश्वर मिश्रा ने रंग कुछ इस तरह डालो साथी, मन का कलमह धुल जाए।जात पात का भेद मिटे,केवल भारत रह जाये ,बस केवल भाररह जाये,जगदीश वाजपेयी ने अपनी प्रस्तुति मे रंग रंगीली होली आई रे,नाचो ठुमका मार,मनको भावे चित चुरावे,फगुनी ये त्यौहार। सुभाष यादव ने सुनाया रंग उमंग का त्यौहार है होली,कही हुडदंग कही प्यार है होली, इंसान को इंसान से दे जोड,कही ऐसा व्यवहार है होली।मनोज परसाई ने सात रंग की होली खेलो,देखो संतरंगी सपना, मन के आइने को निहार लो,जहाँ बसा है कोई अपना,लोटन सिंह ने तन मन मै प्यार कि व्यारि लाई होली रे,सारे जग को एक रंग मे लाई होली रे,मनोज दुबे ने गौरी भई लाजवंती, लगो गाल गुलाल।प्रेम रंग मे भींग रही,होरी को कमाल।डाँ. स्मिता रिछारिया ने डाली ने झूम झूम कर ओर नाच -नाच करसोने की करंसी से की भरपूर न्यौछावर।बीना दुबे मै बैठी कोर की कोरी ,कोई मुझसे नाहीं खेले होली को खूब सराहा गया इसके अलावा एच.पी बछलदे,महेंद्र तिवारी, हिमांशु शर्मा सहित अन्य कवियों ने रचना पाठ किया
कार्यक्रम का संचालन सुभाष यादव ने किया आभार खेमचंद यादवेश ने व्यक्त किय इस अवसर पर पाठक मंच के सदस्यों के अलावा अन्य गणमान्य साहित्यकार उपस्थित हुए।.
केप्टन करैया

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*