विज्ञापन

Devendra Soni November 11, 2018

नहीं तो पाँच वर्ष पडे़गा पछताना कौन कर सकता देश का भला , अच्छी तरह कर ले तू पहचान ; ‘मत’ में निहित है जन -कल्याण, शुभ कार्य है लोकतंत्र में मतदान। वोट माँग रहे कितने उम्मीदवार, अच्छा-बुरा सोच समझकर जान; जन गण का करे हृदय से सम्मान, उसके पक्ष में कर पावन मतदान । […]

Devendra Soni September 21, 2018

नई कविता – शक्ति रचनाकार की जहाँ पहुँचा ना रवि पहुँचा वहाँ कवि सत्य है यह कथन प्रकाश में जो दिखता नही साहित्यकार की नज़र से वह कभी छिपता नही कवि कल्पना ढूंढ कर उसको करती है उजागर समक्ष सबके उधेड़कर हर कुप्रथा के ताने-बाने रख देती है सामने समाज के कल्पना रचनाकार की रखती […]